Home Lucknow News UP Government Orders Fired In Indian Marriage

सेंचुरियन वनडे: भारत ने जीता टॉस, पहले गेंदबाजी का फैसला

सेंचुरियन वनडे: टीम इंडिया में एक बदलाव, शार्दुल ठाकुर को मिला मौका

PNB घोटाले के दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा, चाहे वो राहुल गांधी ही क्यों ना हों: नरसिम्हा राव

दिल्ली: प्रकाश जावड़ेकर कुछ ही देर में करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस

त्रिपुरा में चुनाव प्रचार खत्म, 18 फरवरी को होगी वोटिंग

पुलिस के संरक्षण में प्रतिबंध का माखौल

Lucknow | 17-Nov-2017 11:25:59 | Posted by - Admin
  • बारातों में जमकर हुई आतिशबाजी
  • चौक चौराहे पर पुलिस मौजूदगी में दगते रहे पटाखे
   
UP Government Orders Fired in Indian Marriage

दि राइजिंग न्‍यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

राजधानी में प्रदूषण के मद्देनजर प्रशासन ने बारातों में आतिशबाजी पर प्रतिबंध लगा दिया है। धारा 144 लागू कर दी गई है ताकि राजधानी की आबोहवा प्रदूषित न होने पाए, लेकिन प्रशासन की इस कवायद पर पुलिस वाले ही पानी फेर रहे हैं। भले ही जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा ने इसके लिए गुरुवार को आदेश जारी कर दिए थे, लेकिन रात में पुलिस अपनी धुन में मस्त नजर आई।

 

 

 

अब जरा गौर कीजिए। गुरुवार रात करीब पौने नौ बजे चौक चौराहे पर ही पुलिस के सहायता बूथ में चौक थाने के तमाम उपनिरीक्षक व सिपाही आराम फरमाते रहे, जबकि चौराहे पर रास्ता रोक कर आतिशबाजी होती रही। एक बाद एक तमाम पटाखे दगने के कारण चौराहे पर हर धुआं दिखाई दे रहा था लेकिन पुलिस बारातियों का डांस देखने में व्यस्त थी।

 

 

केवल यही नहीं कोनेश्वर चौराहा व हरदोई रोड पर बारातों में देर रात आतिशबाजी होती रही, लेकिन पुलिस कान में तेल डाले रही। यही हाल हजरतगंज में मोती महल लॉन का था। यहां पर देर रात तक बारात में आतिशबाजी होती रही। ट्रांसगोमती इलाकों में भी बारातों में जमकर आतिशबाजी होती रही, मगर कहीं पर पुलिस ने कार्रवाई करना तो दूर रोकने तक की जहमत नहीं उठाई।

 

 

 

वहीं पुलिस अधीक्षक पश्चिम विकास त्रिपाठी ने बताया कि इस संबंध में क्षेत्राधिकारी व इंस्पेक्टरों को निर्देश दे दिए गए हैं। अगर इस तरह की शिकायत मिली तो संबंधित क्षेत्र के प्रभारियों पर कार्रवाई की संस्तुति की जाएगी।

 

 

15 जनवरी तक रहेगी रोक

जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा ने बताया कि प्रदूषण के मद्देनजर आतिशबाजी पर 15 जनवरी 2018 तक रोक जारी रहेगी। इसके लिए सभी अधिकारियों को निर्देश जारी हो चुके हैं। इस पर प्रभावी तरीके से अंकुश लगाया जाएगा।

 

 

 

कारोबारियों लगा झटका

प्रदूषण के चलते बारातों मे आतिशबाजी पर रोक ने पटाखा कारोबारियों की कमर तोड़ दी है। वजह है कि राजधानी व आसपास के जिलों में सहालग के दौरान एक करोड़ रुपये से अधिक की आतिशाबाजी का कारोबार होता है। दीपावली के बाद सहालग और क्रिसमस-नववर्ष ऐसे आयोजन होते हैं, जब पटाखों की बिक्री बहुत अच्छी होती है।

इस बार पहले दीपावली पर प्रशासन ने सख्ती दिखाई जिससे कारोबार प्रभावित रहा और अब रही सही कसर प्रदूषण से पूरी हो गई है।

 

 

प्रशासन ने पंद्रह जनवरी 2018 तक पटाखों की बिक्री प्रतिबंधित कर दी है। साथ ही प्रदूषण स्तर कम न होने पर इसे आगे भी जारी रखने की बात कही है। ऐसे में कारोबारियों की नींद उड़ गई है। वजह है कि तमाम कारोबारियों ने सहालग के लाखों रुपये के आर्डर बुक कर रखें है।

अब प्रशासन की रोक के कारण उनका कारोबार ही प्रभावित नहीं हो रहा है बल्कि उन्होंने तैयारियों के लिए जो माल खरीदा था, वह भी घाटे का सौदा बन गया है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll


https://www.therisingnews.com/slidenews-personality/a-day-with-doctor-sarvesh-tripathi-1668



Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news