Baaghi 2 Assistant Director Name Came in Physical Assault

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

हजरतगंज के सूरजदीप कॉम्‍प्‍लेक्‍स की फर्श पर शुक्रवार की सुबह सात बजे खून से सने दो शवों की जानकारी जैसे ही स्‍थानीय लोगों को हुई तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में लोगों ने यूपी 100 को सूचना दी तो मौके पर एसएसपी दीपक कुमार कई थानों की फोर्स और फोरेंसिक एक्‍सपर्ट के साथ जा पहुंचे। घटनास्‍थल से मृतकों के  परीक्षण और साक्ष्‍य लेने के बाद शवों को पोस्‍टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया।

मामले की पड़ताल शुरू हुई तो करीब दो घंटे बाद मृतकों की पहचान कैसरबाग में रहने वाले 20 वर्षीय काजल और ओजस तिवारी के रूप में हुई। एसएसपी ने बताया कि प्रारंभिक जांच में घटना आत्‍महत्‍या नजर आ रही है। मौके से घटना में प्रयुक्‍त ब्‍लेड भी बरामद किया गया है। 

 

 

 

पाश इलाकों में शुमार बटलर पैलेस के पास स्थित सूरजदीप कॉम्‍प्‍लेक्‍स की 6वीं मंजिल पर देर रात करीब 12 बजे काजल और ओजस जिस तरह पहुंचे उससे यही लग रहा है कि दोनों एक दूसरे को बहुत अच्‍छे से जानते थे और शादी करना चाहते थे। घर वालों की नाराजगी के चलते दोनों ने यह कदम उठाया। क्‍योंकि दोनों ही शवों में किसी तरह के कोई भी जबरदस्‍ती ऊपर लाने या अन्‍य खरोंच के कोई निशान नहीं मिले हैं। इससे प्रथम दृष्टया यह स्‍पष्‍ट हो रहा है कि काजल-ओजस आत्‍महत्‍या का इरादा करके ही यहां पहुंचे थे।

 

काजल

 

ओजस तिवारी

 

 

 

इसके बाद ओजस ने नए ब्‍लेड का रैपर खोलकर ब्‍लेड से अपने बाएं हाथ की नस काट ली। फिर उसने यहां से छलांग लगाई। इसके कुछ ही देर बाद काजल ने भी छठीं मंजिल से छलांग लगाते हुए आत्‍महत्‍या कर ली। मौके से पुलिस ने कई साक्ष्‍यों को एकत्रित किया है। 

 

 

 

आत्‍महत्‍या की थ्‍योरी-किडनैपिंग की रिपोर्ट-

पुलिस इसे आत्‍महत्‍या की थ्‍यो‍री बता रही है तो वहीं 3/149 विपुल खंड गोमतीनगर में रहने वाले मृतका के चाचा भास्‍कर पाण्‍डेय ने कैसरबाग थाने में अपनी भतीजी काजल के अपहरण की रिपोर्ट गुरुवार को देर शाम दर्ज कराई। इसमें उन्‍होंने बताया कि उनकी भतीजी काजल पाण्‍डेयपुत्री रत्‍नाकर पाण्‍डेय 84/396ए कटरा मकबूलगंज में रहती है। वह शाम पौने साथ बजे से गायब है। उन्‍होंने पास में ही रहने वाले ओजस तिवारी पुत्र आनंद तिवारी पर अपहरण का आरोप लगाते हुए परिजनों की भूमिका पर भी शक जताया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर पड़ताल तो शुरू की लेकिन उसी रात दोनों ने अपनी जीवन लीला समाप्‍त कर ली।

 

  

 

 

यह है कॉम्‍प्‍लेक्‍स की सुरक्षा-

एक साथ दो शव मिलने के साथ ही कॉम्‍प्‍लेक्‍स की सुरक्षा व्‍यवस्‍थाओं की पोल भी खुल गई। दरअसल, जिस समय काजल और ओजस सूरजदीप कॉम्‍प्‍लेक्‍स की छत पर जा रहे थे उस समय वहां पर कोई सुरक्षा गार्ड ही नहीं था। जिससे वह बिना रोक-टोक के ऊपरी मंजिल तक जा पहुंचे और इसके बाद यह घटना हुई। यहां पर काम करने वाले लोगों ने बताया कि गार्ड सभी कार्यालयों के बंद होने के बाद चला जाता है। जिससे यहां की सुरक्षा भगवान भरोसे ही रहती है। 

 

 

घटनास्‍थल से मिले अहम सुराग-

मौके पर पहुंची एफएसल की टीम ने घटना स्‍थल को कवर करते हुए वहां से कई साक्ष्‍यों को एकत्रित किया। जो घटना जांच में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। इस दौरान मृतक काजल का खून, उसकी हेयर क्लिप और बाल, मृतक ओजस का खून, छत पर रखे एसी यूनिट के पास से ब्‍लेड, नए ब्‍लेड का रैपर, सादा कॉटन, युवती के बाएं पैर का जूता शामिल है। हालांकि एफएसएल ने समाचार लिखे जाने तक जूते को अपनी जांच में शामिल नहीं किया था। एफएसएल के डॉ. जीखान का कहना है कि सभी आवश्‍यक चीजों को जांच के लिए भेजा जा रहा है।

 

 

“काजल और ओजस के शरीर में किसी तरह के कोई लड़ाई-झगड़े के निशान नहीं मिले हैं। ओजस ने बाएं हाथ की नस को काटकर छलांग लगाई और इसके बाद काजल ने छठवीं मंजिल से छलांग लगा दी। प्रथमदृष्‍टा मामला आत्‍महत्‍या का ही लग रहा है। काजल के परिजनों ने अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया है। मौके से फॉरेंसिक एक्‍सपर्ट ने ब्‍लेड, खून और अन्‍य साक्ष्‍य एकत्रित किए हैं। पुलिस सभी पक्षों की जांच कर रही है।”

दीपक कुमार

एसएसपी

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement