Golmal Starcast Will Be in Cameo in Ranveer Singh Simba

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

पूजा शुक्‍ला जो लखनऊ यूनिवर्सिटी में बीते दिनों दाखिले की मांग लेकर अनशन पर बैठी थीं, उन्होंने आज प्रेस वार्ता कर विश्‍वविद्यालय द्वारा उनपर लागाये गये आरोपों को निराधार बताते हुए हर एक आरोप पर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि 2015 में पोस्टर चस्पा कर गंदगी फैलाने संबंधित उनपर लगा आरोप गलत हैं।

 

आज लविवि के गेट संख्या एक पर पत्रकारों से वार्ता करने पहुंची समाजवादी पार्टी की छात्र नेता पूजा शुक्ला ने उनपर लगे आरोपी को सफाई देते हुए कहा कि 27 जुलाई 2015 को पोस्टर चस्पा कर गंदगी फैलाने संबंधित आरोप जो मुझ पर लगाए गए हैं, सब निराधार हैं। उन्होंने बताया कि ये आयोग की सिफारिशों के खिलाफ है जिसमें छात्रों की राजनीतिक अभिव्यक्ति हेतु पर्चा,पोस्टर, वाल मैगजीन लगाने की आजादी है।

पूजा ने कहा कि विश्वविद्यालय इसके लिए हद से हद वॉल ऑफ डेमोक्रेसी घोषित कर जगह निर्धारित कर सकता है, जो कि कभी विश्वविद्यालय ने सार्वजनिक नहीं किया। पूजा ने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा 2015 में अनुशासन पर 2017 में निलंबन की कोई भी नोटिस उन्हें प्राप्त नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि 26 सितम्बर 2015 को क्या घटना हुई, इसके बारे में उन्हें मालूम नहीं है।

 

उन्होंने 20 जुलाई 2017 को किसी भी गेट पर कोई ताला न लगाने की बात कहते हुए सवाल किया कि अगर इससे संबंधित कोई सीसीटीवी फुटेज हो तो विश्वविद्यालय जारी करें, वरना बेबुनियाद आरोप लगाकर सरकार, न्यायपालिका और मीडिया को गुमराह न करे। पूजा शुक्ला ने लविवि के कुलपति पर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रवेश का मुद्दा ही मुख्य मुद्दा है, जिस पर लगातार कुलपति पुलिस प्रशासन, न्यायपालिका और मीडिया को गुमराह कर रहे हैं। विश्वविद्यालय नियमों का गलत संदर्भ दे रहे हैं।

उन्होंने तर्क दिया कि उन्होंने सत्र 2016-17 में एम.ए दर्शनशास्त्र में प्रवेश लिया था, लेकिन कुछ कारण से 2 दिन बाद उन्होंने अपना प्रवेश रद्द कराने के लिए विभाग में प्रार्थना पत्र दिया था। विश्वविद्यालय की ऑर्डिनेंस के पेज 14 नियम संख्या 15 के अंतर्गत यदि कोई छात्र क्लास शुरू होने के प्रथम 10 दिनों में कक्षाएं नहीं करता है तो उसका प्रवेश पत्र निरस्त माना जाएगा। इसके आधार पर उनके द्वारा प्रवेश रद्द करा दिया गया और इसी क्रम में मैंने एक भी कक्षा नहीं की।

 

इतना ही नहीं पूजा शुक्ला ने कुलपति पर आरोप लगाते हुए ये भी कहा कि कुलपति ने आते ही कैलाश छात्रावास कांड के संगीन मुकदमों में नामजद छात्रों को प्रवेश दिया और उनका निष्कासन वापस लिया क्योंकि वह छात्र ABVP के थे।

उन्होंने बीते महीने अनशन करने को लेकर बताया कि वह 2 जुलाई 2018 को कुलानुशासक से मिलने पहुंची तो उन्होंने बात करने से मना कर दिया और छात्रों से अभद्रता की और बोला जो करना है कर लो। जिसके बाद हमारे पास अपने भविष्य को बचाने के लिए भूख हड़ताल के अलावा कोई विकल्प नहीं था।

 

पूजा ने बताया कि माधुरी सिंह और गौरव पांडे दोनों को ही मेरिट लिस्ट होने के बावजूद राजनीतिक द्वेष के कारण प्रवेश से वंचित कर दिया गया। कुलपति द्वारा जारी निष्कासन व प्रवेश प्रबंधित की लिस्ट में भी उनका नाम नहीं है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement