Home Lucknow News Scams And Frauds In Lucknow Bus Stands

सेंचुरियन वनडे: भारत ने जीता टॉस, पहले गेंदबाजी का फैसला

सेंचुरियन वनडे: टीम इंडिया में एक बदलाव, शार्दुल ठाकुर को मिला मौका

PNB घोटाले के दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा, चाहे वो राहुल गांधी ही क्यों ना हों: नरसिम्हा राव

दिल्ली: प्रकाश जावड़ेकर कुछ ही देर में करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस

त्रिपुरा में चुनाव प्रचार खत्म, 18 फरवरी को होगी वोटिंग

बस स्टेशन के सामानांतर बस अड्डा

Lucknow | 12-Feb-2018 18:35:51 | Posted by - Admin

 

  • कौशाम्‍बी बस अडडे से पश्चिम से पूर्वाचल तक हो रहा डग्‍गामार बसों का संचालन

  • जांच में खुली पोल, राजधानी में सात बसें सीज

   
Scams and Frauds in Lucknow Bus Stands

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

सूबे के मुख्‍यमंत्री से लेकर परिवहन मंत्री ने या‍त्री सुविधाओं को लेकर डग्‍गामार वाहनों पर लगाम लगाने का दम भर रहे हैं। हर भाषण में अवैध संचालन पर लगाम लगाने का दावा किया जा रहा है लेकिन जबकि हकीकत में अवैध डग्गामार वाहन अब बस अड्डों के सामने से ही संचालित हो रहे हैं। राजधानी ही नहीं, कौशाम्बी, गाजियाबाद में भी इसी तरह का संचालन हो रहा है। सोमवार को रोडवेज अधिकारियों की जांच में एक बार फिर इसकी कलई खुल गई।

 

अभियान के दौरान रोडवेज एवं परिवहन विभाग के अधिकारियों ने दिल्‍ली से लेकर लखनऊ और प्रतापगढ़ - मुजफ्फरनगर सवारी ले कर जा रही बसों को जांच के दौरान रोक कर सीज कर दिया गया। जांच में शामिल सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक प्रशांत दीक्षित ने बताया कि बस चालकों ने बताया कि वे कौशांबी बस अड्डे के सामने स्थित स्टैंड से सवारी लेकर चले थे। बस चालकों के बयान के बाद रोडवेज के भ्रष्ट अधिकारियों की भी पोल खुल गई है।

हर बस अड्डे पर चल रहा खेल

अवैध डग्गामार बसों के संचालन का खेल राजधानी से लेकर फैजाबाद, गोंडा, गाजियाबाद, कौशांबी आदि सभी शहरों में चल रहा है। राजधानी में ही अवध डिपो के सामने से ही डग्‍गामार वाहन संचालित हो रहे है। ऐसा नहीं, इसकी जानकारी अधिकारियों को नहीं है लेकिन वे तमाम बहाने बताकर पल्ला झाड़ लेते हैं। शासन को पत्र भेजने का दम तो भरते हैं लेकिन पत्र की प्रति उनके पास नहीं मिलती। इसी तरह से परिवहन विभाग के प्रवर्तन अधिकारी भी इन बस आपरेटरों से हर महीने से मोटी रकम वसूल रहे हैं। यही कारण है कि जांच केवल हाईवे या दूर दराज इलाकों में होती है। अन्यथा शहर के भीतर जांच की ही नहीं जाती है। इसके चलते सिटी स्टेशन, डालीगंज बांस मंडी, केकेसी मोड़, खदरा पुल तक विभिन्न रूटों की बसों के अड्डे बन गए हैं।

सात साल पहले लगी प्रभावी रोक

बसपा सरकार के शासन में डग्‍गामार बसों पर प्रभावी रोंक लगायी गयी थी। इस दौरान डग्‍गामार बसों के संचालन पर रोडवेज अधिकारियों एवं पुलिस पर कार्रवाई करने के आदेश दिये गये थे। रोडवेज अधिकारियों ने बताया कि इस कडे कदम के चलते डग्‍गामार वाहनों पर प्रभावी रोक लगी थी।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll


https://www.therisingnews.com/slidenews-personality/a-day-with-doctor-sarvesh-tripathi-1668



Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news