Priyanka Chopra Shares Her Experience of Health Issues

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

अपने को नामचीन सेक्‍सोलॉजिस्‍ट बताते हुए सेक्‍स क्लीनिक चला रहे डॉ. एके जैन और एसके जैन के यहां स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने सोमवार को छापेमारी करते हुए पोल खोल दी। अचानक हुई छापेमारी से यहां के कर्मचारियों ने उप चिकित्‍साधिकारी डॉ. एसके रावत से धक्‍का-मुक्‍की करने का प्रयास किया लेकिन फटकार के बाद कर्मचारियों के होश ठिकाने आ गए। इस दौरान दोनों ही सेक्‍सोलॉजिस्‍टों ने ना तो डिग्री दिखाई और ना ही सेक्‍स क्‍लीनिक चलाने का रजिस्‍ट्रेशन मुहैया करा पाए। इस पर अधिकारियों ने बर्लिंगटन और चारबाग के क्‍लीनिक को बंद कराते हुए एसके जैन और एके जैन को नोटिस दिया है। उप चिकित्‍साधिकारी ने नोटिस का जवाब ना देने और जांच पूरी होने के पहले फिर से क्‍लीनिक खोलने पर सीलिंग की कार्रवाई करने की चेतावनी दी है।

 

 

दोपहर दो बजे के आसपास बर्लिंग्टन चौराहा स्थित एसके जैन के सेक्‍स क्लीनिक पर मरीजों की भारी भीड़ थी। एक-एक कर पीडि़त अपना उपचार भी करा रहे थे, लेकिन इसी बीच उप चिकित्‍साधिकारी के पहुंचने की जानकारी मिली तो वहां पर हड़कंप मच गया। अफरा-तफरी के बीच मरीज इधर-उधर भागने लगे तो क्‍लीनिक के सुरक्षाकर्मियों ने उप चिकित्‍साधिकारी को अंदर आने से रोक लिया। ऊंची पहुंच का हवाला देते हुए सुरक्षाकर्मियों ने अधिकारी पर रौब गांठा तो डिप्‍टी सीएमओ ने पुलिस बुलाने की बात कही, तब जाकर सुरक्षाकर्मी शांत हुए।

 

 

भारी गहमा-गहमी के बीच सेक्‍स क्‍लीनिक का रजिस्‍ट्रेशन और डॉक्‍टर एसके जैन की डिग्री मांगी गई तो वहां कोई दस्‍तावेज नहीं मिल सका। इसी तरह चारबाग के गौतम बुद्ध मार्ग पर स्थित एके जैन के यहां भी अनियमितता पाई गई। यहां पर तो एक अज्ञात व्‍यक्ति ही सेक्‍स मरीजों का उपचार कर रहा था। अधिकारियों ने जब जानकारी की तो पता चला कि एके जैन कहीं बाहर हैं इसलिए वह ही मरीजों को देख रहा है। डिप्‍टी सीएमओ ने मामले पर दोनों ही सेक्‍सोलॉजिस्‍टों को नोटिस जारी करते हुए मंगलवार तक दस्‍तावेज सौंपने का आदेश दिया है। 

मुख्‍यमंत्री सहित कई नामचीन हस्तियों के साथ लगाई फोटो- 

खुद को सर्वोत्‍तम सेक्सोलॉजिस्ट बताने वाला डॉक्‍टर एसके जैन अपने क्‍लीनिक पर मुख्‍यमंत्री सहित कई नामचीन हस्तियों की फोटो लगाए हुए है। इनमें वह किसी से सम्‍मानित हो रहा है तो किसी को वह सम्‍मानित कर रहा है। इसमें मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ, उप मुख्‍यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य से लेकर रामदेव और अन्‍य हस्तियां शामिल हैं। इतना ही नहीं कई समाचार पत्रों की कटिंग को भी बड़े-बड़े फ्रेम में लगवा कर सजाए हुए है। इससे वह अधिकारियों और लोगों के बीच अपनी हनक बनाता है और लोगों को गुमराह करता है। 

महीने भर पहले हुई थी छापेमारी

मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल पर शिकायत के बाद पिछले महीने में बर्लिंगटन स्थित डा. एसके जैन के सेक्‍स क्‍लीनिक में भी छापेमारी हुई थी। छापे के दौरान बड़ी मात्रा में रंग बिरंगी दवाएं–कैप्सूल मिले थे लेकिन उनके ना तो रैपर थे न ही खरीद संबंधी कोई दस्तावेज। मौके पर डा. जैन की डिग्री भी जांच दल को नहीं मिली थी। हालांकि उनके पुत्र सारांश जैन ने सभी दस्तावेज जांच के लिए उपलब्ध कराने का दावा किया था लेकिन उप आय़ुक्त ड्रग लगातार दस्तावेज न मिलने की बात कहते रहें। यही नहीं, डा.एसके जैन ने जो डिग्री दिखाई थी, उसकी भी लखनऊ विश्वविद्यालय से पुष्टि कराई जा रही है और रिपोर्ट अभी लंबित है।

“मुख्‍यमंत्री के पोर्टल पर कई बार शिकायत आने के बाद एसके जैन और एके जैन के क्‍लीनिक में छापेमारी की गई है। इस दौरान दोनों से डिग्री और क्‍लीनिक का रजिस्‍ट्रेशन मांगा गया लेकिन किसी ने भी कोई दस्‍तावेज नहीं दिखाया। इस पर सेक्‍स क्‍लीनिक को बंद कराते हुए नोटिस दी गई है। साथ ही साथ जब तक डिग्री और रजिस्‍ट्रेशन की जांच नहीं हो जाती है तब तक क्‍लीनिक बंद रहेगा। यदि मंगलवार तक दोनों सेक्‍सोलॉजिस्‍टों ने दस्‍तावेज नहीं सौंपे गए और क्‍लीनिक खोल लिया तो उसे सील कर दिया जाएगा।”

डॉ. एसके रावत

उप मुख्‍य चिकित्‍सा अधिकारी

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement