Rani Mukerji to Hoist the National flag at Melbourne Film Festival

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

कई महीनों से वेतन न मिलने से नाराज सिटी ट्रांसपोर्ट कंपनी के चालकों–परिचालकों ने शुक्रवार दोपहर अचानक ही बसों का संचालन बंद कर दिया। दर्जनों चालक–परिचालक बसें लेकर गोमतीनगर डिपो पहुंच गए और बसें खड़ी कर हंगामा शुरू कर दिया। चालकों परिचालकों का करीब डेढ़ करोड़ रुपये बकाया है लेकिन सिटी ट्रांसपोर्ट कंपनी पैसा न होने का दलील दे रहा है।

 

 

उधर, नाराज चालकों रात तक बसों का संचालन करने को तैयार नहीं थे। अचानक राजधानी में बस सेवा बंद हो जाने के कारण लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं सिटी ट्रांसपोर्ट कंपनी के प्रबंध निदेशक आरिफ सकलैन ने बताया कि कर्मचारियों को जल्द भुगतान का आश्वासन दिया गया लेकिन बिना वेतन में संचालन को तैयार नहीं है।

दरअसल, सिटी ट्रांसपोर्ट कंपनी में कार्यरत चालकों–परिचालकों को कई महीने से वेतन नहीं है। नवंबर महीने में भी कर्मचारियों को आधी ही तनख्वाह मिली थी। उसके बाद चालकों–परिचालकों को कोई भुगतान नहीं हुई है। उधर समय से वेतन न मिलने से कर्मचारियों की नाराजगी लगातार बढ़ती जा रही थी। कई बार नोटिस व ज्ञापन दिए जाने के बाद भी कर्मचारियों को वेतन का भुगतान नहीं किया जा सका। इससे नाराज कर्मचारी अचानक ही आंदोलित हो गए। कर्मचारियों ने सत्तर से ज्यादा बसें गोमतीनगर डिपो में खड़ी कर दी और वेतन भुगतान न होने तक संचालन न करने की चेतावनी दी।

उधर, कर्मचारियों के इस रुख को देखकर सिटी ट्रांसपोर्ट कंपनी प्रबंधन की भी नींद उड़ गई। इस बावत शासन से लेकर शहरी नगरीय परिवहन निदेशालय को घटना को अवगत कराया गया। शासन से भी कर्मचारियों के भुगतान के लिए धन की मांग की गई। सिटी ट्रांसपोर्ट कंपनी के प्रबंध निदेशक ने बताया कि कर्मचारियों के बकाया वेतन के भुगतान के लिए धन की मांग की गई है और सोमवार तक सेवाएं सामान्य कर लिए जाने की संभावना है।

लोगों पर भारी पड़ सकते हैं दो दिन

गोमतीनगर डिपो से बसों का संचालन बंद हो जाने से आने वाले दो दिन ट्रांसगोमती क्षेत्र के लोगों के लिए खासी दिक्कत हो सकती है। दरअसल चालक–परिचालक बिना वेतन के बस चलाने को तैयार नहीं है और प्रबंधन के पास भी उन्हें भुगतान करने को पैसा नहीं है। इसी कारण से कर्मचारियों का यह कार्यबहिष्कार सोमवार तक समाप्त होने की संभावना जताई जा रही है। उधर, गोमतीनगर, इंदिरानगर आदि क्षेत्रों में सिटी बसें ही आवागमन का मुख्य साधन हैं, ऐसे में लोगों को दिक्कत होना भी लाजिमी है। जबकि सिटी ट्रांसपोर्ट कंपनी के प्रबंध निदेशक ने कहा कि कर्मचारियों को संचालन के लिए सहमत करने का प्रयास किया जा रहा है ताकि लोगों को असुविधा न होने पाएं।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll