Disha Patani Speaks on Salman Khan for Bharat

दि राइजिंग न्यूज

लखनऊ। 

 

सिटी मांटेसरी स्कूल की चौक शाखा में हुई करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी के मामले में सोशलिस्ट पार्टी के सदस्य एवं समाजसेवी संदीप पांडेय के नेतृत्व में मार्च निकाला गया। मार्च में स्कूल की पूर्व प्रधानाचार्या साधना बेदी को लाखों रुपये देने वाले तमाम लोग भी शामिल थे। मार्च में शामिल लोगों ने इस संबंध में लोगों में पैम्फलेट बांटे और सिटी मांटेसरी स्कूल प्रबंधन की ठगी से लोगों को रूबरू कराया। प्रदर्शनकारी गले में तख्तियां टांगे थे और उसमें तरह –तरह के नारे लिखे हुए थे। यह मार्च चौक में कमला नेहरू मार्केट से शुरू होकर ठाकुरगंज तक गया। इस दौरान पूरे रास्ते लोगों को सिटी मांटेसरी स्कूल में हुए घपले के संबंध में पैम्फलेट वितरित किए गए।

 

मार्च में शामिल संदीप पांडेय, शांतनु शर्मा, राजेश अग्रवाल, विभोर आदि ने बताया कि स्कूल प्रबंधन द्वारा तमाम लोगों से करोड़ों रुपये उधार में लिए गए। नोटबंदी के बाद स्कूल प्रबंधन ने इसे पूर्व प्रधानाचार्या द्वारा की गई धोखाधड़ी करार देते हुए, उससे पल्ला झाड़ लिया। जबकि चौक शाखा में पैसे का यह लेनदेन करीब डेढ़ दशक से चल रहा था। नोटबंदी के बाद अचानक ही इस पूरे फ्राड का तानाबाना बुना गया और सुनियोजित तरीके से प्रधानाचार्या को बर्खास्त कर दिया गया। नतीजतन लोगों का सारा पैसा  फंस गया। अब स्कूल प्रबंधन प्रधानाचार्या को जिम्मेदार बताकर अपना पल्ला झाड़ रहा है जबकि लोगों से पैसा लेने के बाद उन्हें स्कूल के लेटरहेड पर प्रधानाचार्या की मुहर लगी रसीद दी जाती थी।

सिटी मांटेसरी स्कूल ने पूर्व प्रधानाचार्या के खिलाफ कोई रिपोर्ट नहीं कराई लेकिन ठगी के शिकार लोगों से प्राथमिकी दर्ज कराने को कहा जा रहा है। यह पूरी तरह से सुनियोजित ठगी। स्कूल में करीब 25-30 करोड़ रुपये इसी तरह से हड़प लिया गया है। इसकी शिकायत आयकर विभाग से भी की गई। उल्लेखनीय है कि इस मामले में पिछले दिनों आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रभारी एवं राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने भी सिटी मांटेसरी स्कूल में हुई धोखाधड़ी के मामले में मानव संसाधन मंत्रालय तथा प्रवर्तन निदेशालय में पत्र भेज कर शिकायत दर्ज कराने की बात कही थीं। 

 

मार्च में शामिल सोशलिस्ट पार्टी के सदस्य संदीप पांडेय ने कहा कि सिटी मांटेसरी स्कूल द्वारा अपने रसूख का इस्तेमाल करते हुए मामले की जांच को भी प्रभावित किया जा रहा है। इस मामले में ठाकुरगंज पुलिस भी कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। मामले की शिकायत मुख्यमंत्री के जनसुनवाई पोर्टल पर भी है लेकिन उस पर भी कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया जा रहा है।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement