Actor Arshad Warsi on Total Dhamaal

दि राइजिंग न्यूज़

लखनऊ।

 

बुधवार को संसद के बजट सत्र की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित होने से पहले यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने प्रधानमंत्री की सराहना की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने सबके साथ मिलजुलकर काम किया है। सबको साथ लेकर चलने का प्रयास किया है। मोदीजी को हमारी बधाई है और हमारी कामना है कि वह फिर से प्रधानमंत्री बनें। मुलायम सिंह यादव के इस बयान पर सियासी सरगर्मियां बढ़ गई हैं। जहां एक तरफ सत्ता पक्ष दिग्गज नेता को धन्यवाद दे रहा है वहीं विपक्ष बेचैन नज़र आ रहा है। मुलायम सिंह के इस बयान पर शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) की प्रतिक्रिया भी सामने आई है। प्रसपा के प्रदेश महासचिव ओम प्रकाश यादव (पप्पू यादव) ने दि राइजिंग न्यूज़ टीम से बातचीत में भाजपाइयों को इस बयान पर ज्यादा खुश न होने की सलाह दी है।

 

 

बेहतरीन और वरिष्ठ नेता का उदहारण है ये

प्रदेश महासचिव ओम प्रकाश यादव ने कहा कि, “नेता जी सदन के वरिष्ठ नेता हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री जी को बधाई दी है। जिस तरह एक अध्यापक बच्चे को कक्षा में पास होने के लिए बधाई देता है, ठीक उसी तरह नेता जी ने भी मोदी जी को बधाई दी है। उनके इस बयान को सियासत से नहीं जोड़ना चाहिए। किसी राजनीतिक फायदे के लिए उन्होंने ये नहीं बोला है। ये उनके बेहतरीन और वरिष्ठ नेता होने का एक उदहारण है।”

 

“अखिलेश यादव को रोकना गलत था”

बीते दिनों यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को इलाहबाद यूनिवर्सिटी जाने से रोक दिया गया था। जिसके कारण विधानसभा, विधान परिषद और इलाहबाद यूनिवर्सिटी में जमकर हंगामा हुआ। योगी सरकार द्वारा उठाये गए इस कदम की प्रसपा महासचिव ने निंदा की। उन्होंने कहा कि, “मुख्यमंत्री जी का ये कदम गलत था। ये बदले की भावना में उठाया गया कदम है। अखिलेश सरकार में योगी आदित्यनाथ को भी इलाहबाद जाने से रोका गया था। शायद इसी बात का बदला लिया गया है।” ओम प्रकाश ने कहा कि ये छात्रों (युवाओं) का कार्यक्रम था। अखिलेश यादव खुद एक युवा हैं। उन्हें रोकना गलत है।

प्रसपा-कांग्रेस के गठबंधन पर भी बोले प्रदेश महासचिव

प्रसपा के प्रदेश महासचिव ओम प्रकाश यादव ने कांग्रेस और PSPL के गठबंधन पर भी अपने विचार साझा किए। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय नेतृत्व गठबंधन पर विचार कर रहा है। भाजपा को रोकने के लिए हम कांग्रेस से हाथ मिलाने को तैयार हैं। इस गठबंधन में शिवपाल का अनुभव और प्रियंका गांधी का युवा जोश, दोनों साथ मिलकर लड़ेगा तो जीत पक्की है।           

 

प्रसपा की अहमियत को समझ नहीं पा रहा तीसरा मोर्चा

इन दिनों भाजपा और नरेंद्र मोदी के खिलाफ विपक्ष का महागठबंधन तैयार हो रहा है। हालांकि, इस महागठबंधन के मंच पर शिवपाल यादव नज़र नहीं आ रहे हैं। इस पर प्रसपा के प्रदेश महासचिव का कहना है कि वे लोग शिवपाल और उनकी पार्टी की अहमियत को समझ नहीं पा रहे हैं। जिन्होंने समाजवादी पार्टी बनाई है, उन्हीं को दरकिनार किया जा रहा है। शिवपाल यादव लोगों के दिलों में हैं। शिवपाल ने ही सपा की जड़ें मजबूत की हैं। बिना शिवपाल के तीसरा मोर्चा अधूरा है।

 

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement