Akshay Kumar and Priyadarshan Donated to Save Flood Affected People in Kerala

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

राजधानी में राजभवन पास दिनदहाड़े कैश वैन पर हुए हमले के बाद लूट और गनमैन की हत्या के मामले में पुलिस ने एक लाख रुपये के इनामी बदमाश को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी विनीत तिवारी के साथ अपराध छिपाने के जुर्म में उसके जीजा कवींद्र तिवारी को भी गिरफ्तार किया है। जबकि आरोपी की पत्नी भी पुलिस की हिरासत में है। आइजी रेंज सुजीत पांडेय व एसएसपी कलानिधि नैथानी ने एसएसपी आवास पर प्रेसवार्ता में इस बात की जानकारी दी।

आइजी ने बताया कि उनके निर्देशन में आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस की आठ टीमों ने आरोपी को रायबरेली के लालगंज कोतवाली क्षेत्र के पूरे भोला का पुरवा स्थित उसकी बहन के घर से शनिवार की रात 11:30 बजे गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की। इन आठ टीमों के बैकअप में 12 टीमें और लगी थीं। इन 20 टीमों में करीब 50 पुलिसकर्मी शामिल थे। आरोपी की पत्नी के पास से पुलिस ने लूट के चार लाख 73 हजार 900 रुपये भी बरामद किए गए हैं।

पुलिसकर्मियों में बांटी जाएगी ईनामी राशि

आइजी ने लुटेरे को पकड़वाने में सहायता करने वाले शहर के नागरिकों और मीडिया कर्मियों को सहयोग के लिए प्रशंसा की है। उन्‍होंने बताया कि इनाम की राशि इस लूट और हत्याकांड में शामिल सभी पुलिसकर्मियों को बराबर बांट दी जाएगी। वहीं, डीजीपी ने ट्विटर के माध्यम से लखनऊ पुलिस, एडीजी जोन, आइजी रेंज और एसएसपी लखनऊ को सनसनीखेज घटना के खुलासे के लिए बधाई दी है।

रायबरेली का रहने वाला है लुटेरा

आइजी के मुताबिक, आरोपी विनीत तिवारी रायबरेली के नखदिलपुर गांव का रहने वाला है। उसने वर्ष 2013 में निराला नगर में रहने वाले अपने दोस्त सुरेश कुमार बाजपेई की गोली मारकर हत्या कर दी थी। दोनों के बीच लेनदेन को लेकर विवाद हुआ और विनीत ने उसे मौत के घाट उतार दिया था। सदर कोतवाली इन में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। इसके बाद से वह फरार चल रहा था।

कोर्ट ने उसे के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया, लेकिन विनीत पेश नहीं हुआ। पुलिस ने 24 अप्रैल 2015 को उस पर 2500 रुपये का इनाम रखा था। कोर्ट के आदेश पर दो साल पहले उसके घर की कुर्की की जा चुकी है। उसके खिलाफ वर्ष 2013 में गुरबख्श गंज थाना में लड़की भगाने का भी एक मामला दर्ज है। पुलिस का दबाव बढ़ने पर उसके परिवारीजनों के साथ रायबरेली छोड़ दिया और लखनऊ के कृष्णानगर में किराए के मकान में रहने लगे।

ये था पूरा मामला

विशेषखंड गोमतीनगर स्थित एसआइपीएल (सिक्योरिटांस इंडिया प्राइवेट लिमिटेड) कंपनी से सीतापुर के संदना स्थित मिर्जापुर गांव निवासी कैश वैन का गनर इंद्रमोहन, ड्राइवर दुर्विजयगंज थाना नाका निवासी रामसेवक, कस्टोडियन मलिहाबाद के महमदपुर गांव निवासी उमेश चंद्र बीते सोमवार करीब पौने चार बजे राजभवन के बाहर कानून मंत्री बृजेश पाठक के घर के पास गाड़ी खड़ी की। कस्टोडियन एक्सिस बैंक में 44 लाख रुपये जमा करने गया था। इसी बीच सफेद रंग की टीवीएस स्पोर्ट्स बाइक खड़ी करके एक बदमाश कैश वैन के पास पहुंचा।

उसने ड्राइवर के बगल में बैठे गनर से पता पूछने के बहाने शीशा डाउन कराया और उसे दो गोली मार दी, जिससे गनर की मौके पर ही मौत हो गई। इसी बीच कस्टोडियन कैश वैन के पास पहुंचा। ड्राइवर चिल्लाया और 24 लाख रुपये से भरा बैग लेकर भागने लगा। बदमाश ने कैश वैन में पीछे की सीट पर रखे 6.44 लाख रुपये से भरा बैग उठाया और दौड़ाकर पहले कस्टोडियन फिर ड्राइवर को गोली मार दी। इस बीच ड्राइवर किसी तरह 24 लाख रुपयों से भरा बैग लेकर बैंक में घुस गया। इस पर कस्टोडियन से बदमाश ने एक बैग छीन लिया। इसके बाद असलहा लहराते हुए बदमाश बाइक से अकेला ही भाग निकला था।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll