Kareena Kapoor Will Work With SRK and Akshay Kumar in 2019

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

 

वाहनों के पंजीयन के लिए या फिर अन्य किसी काम के लिए परिवहन विभाग के साफ्टवेयर को कहीं बाहर नहीं खोला जा सकेगा। पिछले दिनों ढाई लाख रुपये की फर्जी रसीद काटे जाने का मामला सामने आने के बाद अब इस व्यवस्था को फुलप्रूफ किया जा रहा है। इसके तहत अब सिस्टम ओटीपी बेस होगा और ओटीपी के जरिए खुलेगा और ओटीपी मोबाइल पर कर्मचारी को ही मिलेगा। अगले सप्ताह से यह सिस्टम प्रभावी हो जाएगा।

 

पिछले दिनों आरटीओ दफ्तर में फैंसी नंबर वाली एक फार्च्यूनर गाड़ी के पंजीयन के लिए फर्जी रसीद काटी गई थी। हालांकि यह रसीद कैश मिलान के दौरान पकड़ ली गई थी लेकिन इससे सिस्टम को लेकर तमाम सवाल उठने लगे थे। इसी के मद्देनजर विभाग अब एनआईसी के जरिए सिस्टम को फुलप्रूफ करने में लग गया था। इसके तहत अब सिस्टम आन करने पर पहले ओटीपी जनरेट होगा जो सीधे संबंधित कर्मचारी के मोबाइल पर आएगा और उसके बाद ही सिस्टम खुल पाएगा। परिवहन विभाग के आरटीओ (आईटी) संजय नाथ झा ने बताया कि पिछले दिनों कर्मचारी के पासवर्ड के जरिए फर्जी रसीद काटने का मामला सामने आने के बाद इस कमी को दूर किया जा रहा है। सोमवार से इसका ट्रायल किया जाएगा और उसके बाद इसे लागू कर दिया जाएगा।

वर्तमान व्यवस्था इंटरनेट के माध्यम से परिवहन विभाग के रजिस्ट्रेशन साफ्टवेयर को कहीं भी खोला जा सकता है। विभागीय कर्मचारियों को इसके लिए पारसवर्ड मिले हुए हैं जिनके जरिए वह अपना सिस्टम आपरेट करते हैं लेकिन लापरवाही में पिछले दिनों एक कर्मचारी का पासवर्ड चोरी कर दलाल ने ढाई लाख रुपये की फर्जी रसीद काट ली थी। इस प्रकरण के सामने आने के बाद ही सिस्टम को चाक चौबंद किया जा रहा है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll