Kareena Kapoor Will Work With SRK and Akshay Kumar in 2019

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।  

 

प्रदूषण के मामले में दिल्ली-एनसीआर को भी पीछे छोड़ लखनऊ नंबर एक पर पहुंच गया है। मंगलवार के दिन पिछले पांच साल का रिकॉर्ड तोड़ लखनऊ देश का सबसे प्रदूषित शहर रहा। यहां एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआइ) 486 माइक्रोग्राम पहुंच गया, जबकि दिल्ली में एक्यूआइ घटकर 308 माइक्रोग्राम हो गया। बता दें कि सीपीसीबी ने मंगलवार को देश के 44 शहरों में हवा के क्वालिटी की मॉनिटरिंग की थी।

 

 

प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के अफसरों का कहना है कि प्रदूषण को कम करने के लिए जरूरी उपायों का प्रस्ताव जिलाधिकारी को सौंप दिया गया है। एनजीटी के आदेश में कूड़ा जलाने पर सख्त प्रतिबंध है, इसके बावजूद सफाई कर्मी कूड़ा जला रहे हैं। नगर निगम ने इस बारे में गाइड लाइन जारी की है, लेकिन इसका कोई असर नहीं दिखाई दिया।

 

शहरों के प्रदूषण का लेवल

        शहर        एक्‍यूआइ (एयर क्वालिटी इंडेक्स)

  • लखनऊ         484
  • दिल्ली          308
  • गाजियाबाद     467
  • कानपुर         448
  • मुरादाबाद      420
  • नोएडा         410

 

 

लखनऊ में प्रदूषण का पिछले पांच साल का आंकड़ा (माइक्रोग्राम में)

  • 14 नवम्बर-2017- 486 माइक्रोग्राम
  • 7 नवम्बर-2016- 444 माइक्रोग्राम
  • 12 नवम्बर-2015- 471 माइक्रोग्राम
  • 20 अक्टूबर-2014- 300 माइक्रोग्राम
  • 10 नवम्बर-2013- 476 माइक्रोग्राम

 

 

खतरनाक स्तर पर पहुंच चुके वायु प्रदूषण के बाद शहर में 15 साल पुरानी पेट्रोल गाड़ियां और 10 साल पुरानी डीजल गाड़ियों को बैन किया जाएगा। डीएम कौशल राज शर्मा के मुताबिक, 15 दिसंबर तक जागरुकता अभियान चलाया जाएगा, ताकि लोग खुद से पुरानी गाड़ियों को हटा लें।

डीएम ने सभी विभागों को चिट्ठी लिखकर कहा है कि वो एक हफ्ते के भीतर सरकारी गाड़ियों का प्रदूषण चेक कराकर सर्टिफिकेट लें। अगर रेंडम चेक में किसी की भी गाड़ी पकड़ी गई, तो सीज करने की कार्रवाई की जाएगी। लखनऊ शहर के सभी 129 केन्द्र गाड़ियों के प्रदूषण के लेवल को रेंडम चेक करें।

 

 

मौसम विभाग का पक्ष

मौसम विभाग के डायरेक्टर जेपी गुप्ता के मुताबिक प्रदूषण और कोहरे के कारण धुंध अभी अगले एक हफ्ते तक ऐसे ही बना रहेगा, उसके बाद इसमें कमी आयेगी। अभी बारिश होने की कोई संभावना नहीं है और ठंड में बढ़ोतरी होगी। सबसे ज्यादा ठण्ड सुबह और शाम के समय होगी।

 

 

प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड का पक्ष

उत्‍तर प्रदेश प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के इन्वायरमेंटल ऑफिसर राम करन के मुताबिक राजधानी लखनऊ में प्रदूषण का लेवल काफी बढ़ गया है। इसे कंट्रोल करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाये जा रहे हैं। बुधवार को शहर में प्रदूषण की जांच करने के लिए प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के अधिकारियों की दो टीमें रवाना की गई हैं। जहां पर भी प्रदूषण मिल रहा है, वहां पर नोटिस जारी करने की कार्रवाई की जा रही है। किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा।

कंट्रोल बोर्ड के इन्व्यारमेंटल ऑफिसर अशोक कुमार तिवारी के मुताबिक पंजाब में किसान फसलों की कटाई के बाद खेत साफ करने के लिए बड़ी मात्रा में पराली (फसल का अवशेष) जला रहे हैं। इसके कारण पंजाब से उठने वाली हवा नोएडा और दिल्ली में प्रदूषण फैलाने का काम कर रही है। वहीं, लखनऊ में बढ़ती वाहनों की संख्या उससे उठने वाला धुंआ, तेजी से हो रहा निर्माण और वर्कशॉप प्रदूषण की वजह बना हुआ है।

 

 

बरते यें सावधानी-

  • भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचें।
  • खांसते या छींकते समय नाक और मुंह पर कपड़ा रखें।
  • खुले में ना थूकें।
  • कोहरे में ज्यादा देर तक न टहलें।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll