Akshay Kumar Gold And John Abraham Satyameva Jayate Box Office Collection Day 2

दि राइजिंग न्यूज़

लखनऊ।

 

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के सरकारी बंगले में तोड़फोड़ का मामला अब तूल पकड़ने लगा है। राज्यपाल राम नाईक ने इस मामले में कार्रवाई करने के लिए राज्य की योगी सरकार से सिफारिश की है, वहीं जांच कराने की भी बात कही गई है। अब इसी मामले को लेकर अखिलेश यादव ने मीडिया को संबोधित किया।

“मैंने अपने तरीके से घर बनाया”

अखिलेश यादव ने कहा कि वो घर मुझे मिलने जा रहा था, इसलिए मैंने उसे अपने तरीके से बनाने का काम किया था। पूर्व सीएम ने कहा कि आपने मेरे घर की टोंटी दिखाई, क्या मुख्यमंत्री के OSD वहां पर गए थे और उनके अलावा भी कई IAS ने वहां का दौरा किया था।

 

जलन हो रही सभी को

अखिलेश ने कहा कि मेरे घर में मंदिर देखकर लोगों को जलन हो रही है। कुछ लोग जलन में अंधे हो गए हैं। उन्होंने कहा था कि जिस समय ये घर हमें मिला था, काफी हालत ठीक नहीं थी पिछले एक-साल में मैंने काम करवाया।

लैपटॉप से ज्यादा टोंटी की कीमत नहीं

प्रेस कॉन्फ्रेंस में अखिलेश ने टोंटी दिखाते हुए कहा कि एक लैपटॉप की कीमत से ज्यादा टोंटी की कीमत नहीं है। उन्होंने कहा कि बंगले में जो मंदिर है वो हमने बनवाया था, हमें मेरा मंदिर लौटा दो। अखिलेश ने कहा कि दो निर्दोष जिलाधिकारियों को सस्पेंड कर दिया। आज भी पूरे यूपी में बड़े पैमाने पर ओवरलोडिंग हो रही है।

 

सरकार पर लगाया षडयंत्र रचने का आरोप

उन्होंने कहा कि ये लोग गोरखपुर की हार स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम मानते हैं कि ये फैसला सुप्रीम कोर्ट का था लेकिन सरकारें भी षडयंत्र करती हैं। अखिलेश बोले कि टोंटी तो बहुत छोटी चीज है, हमारी कुछ चीजें मुख्यमंत्री आवास में भी हैं ऐसा है तो हमें वो भी वापस कर दीजिए।

राज्यपाल ने दिखाई सख्ती

इस मामले में राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि आम लोगों से वसूले गए टैक्स के पैसों से सरकारी बंगलों का रखरखाव होता है और बंगला खाली करने से पहले की गई तोड़फोड़ बहुत ही गंभीर और अनुचित मामला है, ऐसे में इस पर विधिसम्मत कार्रवाई की जानी चाहिए।

 

“सरकारी संपत्ति को पहुंचाया नुकसान”

राज्यपाल ने शासन को लिखे पत्र में कहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री के बंगले में तोड़फोड़ किए जाने को लेकर लोगों में चिंता और चर्चा है इसलिए इसकी जांच कराई जानी चाहिए। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सरकारी बंगले 4 विक्रमादित्य मार्ग में खाली करने से पहले किया गया तोड़फोड़ बहुत ही गंभीर और गलत मामला है। इसमें सरकारी संपत्ति को नुकसान पंहुचाया गया है।

राज्य सरकार सौंपेगी रिपोर्ट

सरकारी बंगले में तोड़फोड़ पर राज्यपाल की ओर से कार्रवाई के लिए लिखी गई चिट्ठी के बाद अब राज्य संपत्ति विभाग इस मामले पर बुधवार को रिपोर्ट सरकार को सौंप सकता है। इससे पहले मंगलवार को राज्यपाल ने राज्य संपत्ति विभाग के अधिकारियों को बुलाकर बंगले में तोड़फोड़ की पूरी जानकारी ली।

 

राज्यपाल राम नाईक ने राज्य संपत्ति विभाग के अधिकारियों को बुलाकर पूर्व मुख्यमंत्रियों के बंगलों के आवंटन और रखरखाव की जानकारी ली, अधिकारियों ने बताया कि तमाम पूर्व मुख्यमंत्रियों के बंगलों की वीडियो रिकॉर्डिंग कराई गई है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll