Mahaakshay Chakraborty and Madalsa Sharma jet off to US for Honeymoon

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

शहर और गांवों में फुटकर आतिशबाजी दुकानों को सीमित करने के लिए जिला प्रशासन ने कमर कस लिया है। इस बार नई दुकानों को लाइसेंस ना देने के साथ ही पुराने कुछ दुकानदारों पर भी रोक लगाने की योजना है। एडीएम पश्चिम संतोष कुमार वैश्‍य ने बताया कि इस मामले पर बैठक जारी है और इसके बाद ही इस पर निर्णय लिया जाएगा कि किन दुकानों के अस्‍थाई लाइसेंस को रद किया जाना है।

पुराना किला, नाका, इटौंजा, हुसैनगंज, कैंट, तोपखाना, अर्जुनगंज, नीलमथा, ज्‍योतिबा फुले पार्क, ठाकुरगंज, आशियाना स्थित रतनखंड, कृष्‍णानगर, सरोजनीनगर, इंदिरानगर, अमराई गांव नौबस्‍ता, विभूतिखंड, विनीत खंड, केशव नगर, गोसाईंगंज, काकोरी, बीकेटी और मोहनलालगंज के ग्रामीण इलाकों सहित कई जगहों में तीन दिन का अस्‍थाई आतिशबाजी बाजार लगता रहा है। इस बार सुरक्षा मानकों के आधार पर दुकानों को सीमित करने के साथ ही इनकी संख्‍या में कटौती की तैयारी की गई है। मामले को देखते हुए पांचों तहसीलों के एसडीएम को फुटकर विक्रेताओं की जगह को जांचने के निर्देश दिए गए हैं। एसडीएम, एफएसओ और थाना प्रभारियों को भी जांच में लगाया गया है। एडीएम ने बताया कि पिछले वर्ष जिन जगहों पर आतिशबाजी की दुकानें लगती थी उनमें कुछ जगहें आबादी क्षेत्र में आ गई हैं। इसलिए उन दुकानदारों के फुटकर लाइसेंस को रद करने की तैयारी की गई है।  

“राजधानी में लगभग पांच सौ फुटकर आतिशबाजी दुकानदारों को तीन दिन का लाइसेंस जारी किया जाता है। इस बार इनकी संख्‍या सीमित किए जाने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए संबंधित एसडीएम को जांच के साथ आख्‍या देने को कहा गया है। इसके बाद इसमें कार्रवाई की जाएगी। हालांकि यह तय है कि इस वर्ष किसी भी नए फुटकर दुकानदार को लाइसेंस नहीं दिया जाएगा।”

संतोष कुमार वैश्‍य

एडीएम, पश्चिम

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll