Home Lucknow News Latest Updates Of Smog In Lucknow

जम्मू-कश्मीर: बीती रात भी पाकिस्तान की तरफ से अरनिया में हुई गोलीबारी

बसों के बढ़े किराये को लेकर 27 जनवरी को विरोध प्रदर्शन करेगी DMK

मेहसाणा: पद्मावत के विरोध में करणी सेना ने दो बसों में लगाई आग

वडोदरा: प्लांट में आग लगने के बाद से कंपनी के 3 कर्मचारी लापता

फेक वीडियो रीट्वीट करने के लिए केजरीवाल को मांगनी चाहिए माफी: मनोज तिवारी

अब राजधानी में कूड़ा जलाने पर दर्ज होगी एफआइआर

Lucknow | 14-Nov-2017 14:50:34 | Posted by - Admin
   
Latest Updates of Smog in Lucknow

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

स्मॉग का कहर अभी तक दिल्‍ली में ही था, लेकिन अब इसका रुख राजधानी लखनऊ की तरफ भी हो गया है। पिछले दिनों में प्रदूषण जांच रिपोर्ट में राजधानी टॉप पर रही है। अभी भी यहां वायु प्रदूषण दूसरे शहरों की अपेक्षा काफी अधिक है। प्रदूषण ने सोमवार को सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए।

पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) 2.5 मानक से लगभग 12 गुना अधिक पहुंच गया। केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की मॉनीटरिंग में रात नौ बजे तक पीएम 2.5 की मात्र 715.60 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रिकॉर्ड की गई, जो अब तक सबसे ज्यादा है।

 

 

लखनऊ में रविवार की रात नौ बजे पीएम 2.5 की मात्रा 315.76 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर थी, लेकिन सोमवार को यह 715.60 माइक्रोग्राम तक पहुंच गया। यह स्थिति कोहरा पड़ने के कारण हुई है। तापमान में गिरावट, वातावरण में नमी व हवा की रफ्तार शून्य होने से स्थिति और खराब हो गई है। प्रदूषित कणों ने कोहरे से मिलकर हवा जहरीली बना दी है। यह बुजुर्गों, बच्चों व सांस के मरीजों के लिए खतरनाक है।

 

 

चार दिन पहले भी खतरनाक हुई थी हवा

चार दिन पहले भी लखनऊ की हवा बहुत की खतरनाक स्थिति में पहुंच गई थी। हवा न चलने व वातावरण में नमी के कारण एक्यूआइ 468 माइक्रोग्राम तक रिकॉर्ड किया गया था। इससे लोगों के आंखों में जलन की समस्या शुरू हो गई थी, लेकिन दो दिन बाद हवा चलनी शुरू हुई तो धुंध भी छट गई और लोगों को राहत मिल गई।

वहीं सोमवार सुबह पड़े कोहरे पड़ने ने प्रदूषण की स्थिति को बहुत की खतरनाक बना दिया। दिन में एक बजे के आसपास पीएम 2.5 की मात्र 715.60 माइक्रोग्राम तक रिकॉर्ड किया गया था।

 

 

होगा पानी का छिड़काव

बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए सड़कों पर पानी का छिड़काव कराया जाएगा। इसका प्रस्ताव प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से निर्माण व विकास कार्य कर रही संस्थाओं को दिया जाएगा। इसे लेकर मंगलवार को जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक भी बुलाई गई है और उनके सामने भी इस प्रस्ताव को रखा जाएगा।

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों का कहना है कि प्रदूषण कम करने का यह सबसे कारगर उपाय है। सड़कों पर दिन में दो बार छिड़काव हो जाए तो धूल उड़ने नहीं पाएगी और आद्रता बढ़ने पर हवा में घूम रहे कण नीचे जमीन पर आने लगेंगे।

 

 

नगर निगम ने जारी की गाइडलाइन-  

  • कूड़ा जलाने पर रोक।
  • कूड़ा जलाने पर जुर्माना और मुकदमें की कार्यवाही। 
  • नालों में कूड़ा डालने वाले सफाई कर्मियों पर कार्रवाही के आदेश।
  • निर्माण एजेंसियों को निर्माण अवशेष ढकने की नसीहत।
  • दो बार पानी के छिड़काव की सलाह।

 

 

नासा ने जारी की थी स्मॉग की तस्वीर

बता दें, सात नवंबर को नासा ऑब्जर्वेटरी ने कुछ तस्वीरें जारी की थीं, जिसमें दिल्ली समेत उत्तर भारत और पाकिस्तान में स्मॉग का कहर साफ दिखाई दे रहा है। नासा के मॉडरेट रेजोल्युशन इमेजिंग स्पेक्ट्रोरेडिओ मीटर (एमओडीआइएस) ने एक्वा सैटेलाइट के जरिए यह तस्वीर खींची है। इस तस्वीर में उत्तर भारत और पाकिस्तान के ऊपर भारी धुंध नजर आ रही है।

 

 

वहीं, दूसरी तस्वीर एरोसोल ऑप्टिकल डेप्थ यानि की हवा में मौजूद प्रदूषित कण दिखा रही है, जिसके अनुसार दिल्ली, कानपुर, लखनऊ समेत पंजाब और हरियाणा के कई शहरों में भारी स्मॉग मौजूद है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news