Jhanvi Kapoor And Arjun Kapoor Will Seen in Koffee With Karan

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

भाजपा की मेयर पद प्रत्याशी संयुक्ता भाटिया का नामांकन जुलूस नगर निगम मुख्यालय पहुंचा तभी पूर्व सांसद लालजी टंडन का काफिला भी वहां पहुंच गया। पूर्व सांसद एवं कबीना मंत्री के पिता जी की खिदमत में आनन-फानन नगर मुख्यालय के सामने लगी बैरीकेडिंग को किनारे कर दिया गया।

उसके बाद अपने गार्डों के जेरेसाया टंडन वाहन से निकल कर मतदान कक्ष की ओर बढ़ गए। वहां उनके समक्ष ही भाजपा प्रत्याशी ने अपना पर्चा दाखिल किया।

 

 

दरअसल यह विशेष सम्मान प्रदेश के प्रशासन व पुलिस ने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता के समक्ष प्रस्तुत किया। निर्वाचन आयुक्त के निर्देश कहीं दिखाई दिए, न ही आचार संहिता का पालन। केवल भगवा लहर ही हर तरफ दिखाई दीं।

 

 

दरअसल, निकाय चुनाव को शांति पूर्ण ढ़ंग से संपन्‍न कराने के लिए निर्वाचन आयोग और जिला प्रशासन की तमाम दलीलें मंगलवार को नामांकन के दौरान हवा हो गई। सत्‍तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की मेयर प्रत्‍याशी को नामांकन कराने पहुंचे कद्दावर नेताओं के आगे प्रशासनिक अधिकारियों ने कोना पकड़ लिया।

वहीं कांग्रेस के दोनों प्रत्‍याशी नामांकन कक्ष में ही उलझ गए। मगर अधिकारियों को ना कहीं आचार संहिता का उल्‍लंघन दिखा और ना ही व्‍यवस्‍था की खामी। नामांकन के दौरान प्रत्याशी के साथ केवल प्रस्तावकों-अनुमोदकों को प्रवेश की अनुमति देने की जिलाधिकारी की डींगे भी हवा में दिखाई दीं।

 

 

निर्दलीय प्रत्‍याशियों के नामांकन के लिए प्रत्‍याशी सहित पांच लोग नामांकन कक्ष तक जा रहे थे तो वहीं सत्‍ता पक्ष सहित कांग्रेस, समाजवादी पार्टी ने सभी नियमों को ताख पर रखते हुए खूब आचार संहिता की धज्जियां उड़ाईं। मतदान के पहले ही दमखम दिखाने के लिए तीनों ही पार्टियों ने अपने-अपने प्रत्‍याशियों के समर्थन में पूरा जोर लगाया।

यही कारण रहा कि लालबाग स्थित नगर निगम मुख्‍यालय में मेयर पद के नामांकन के दौरान खूब अफरा-तफरी मची रही। भारतीय जनता पार्टी से संयुक्‍ता भाटिया वीवीआइपी और भारी जुलूस के साथ पार्टी कार्यालय से नगर-निगम मुख्‍यालय के लिए निकली तो आचार संहिता हवा-हवाई हो गए।

 

नामांकन स्‍थल से पहले ही पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर अनाधिकृत चार पहिया वाहनों को रोकने का इंतजाम किया था। पूर्व सांसद लालजी टंडन का वाहन जब बैरिकेडिंग के पास आया तो वहां पर मौजूद कांस्‍टेबल ने उन्‍हें रोक भी दिया। अभी गहमागहमी हो ही रही थी कि अधिकारियों को जैसे ही पता चला कि लाल जी टंडन का वाहन बैरिकेडिंग पर रोका गया है उसे तुरंत ही अंदर किया गया।

 

इतना ही नहीं पूर्व सांसद की कार बिल्‍कुल वहां आकर रुकी जहां पर प्रवेश द्वार बनाया गया था। इसके बाद वीवीआइपियों के आने का कार्यक्रम शुरू हुआ, जिसमें उप मुख्‍यमंत्री डॉक्‍टर दिनेश शर्मा, महिला कल्‍याण मंत्री स्‍वाति सिंह, भाजपा प्रदेश अध्‍यक्ष महेंद्र पाण्‍डेय, विधायक नीरज बोरा, विधायक सुरेश चंद्र श्रीवास्‍तव भी आचार संहिता की धज्जियां उड़ाते हुए नामांकन कक्ष तक आ गए।

 

 

नामांकन के दौरान प्रत्‍याशी संयुक्‍ता भाटिया के साथ इन वीवीआइपी के अलावा प्रदेश सहसंयोजक विनोद कुमार, प्रत्‍याशी की बहू रिशु भाटिया, मोना चावला, पूर्व पार्षद आलमबाग नानक चंद्र लखवानी, रामा शुक्‍ल सहित दर्जनों लोग मौजूद रहे।

भाजपा नेताओं के इस प्रदर्शन के बाद विपक्षी कांग्रेसी भी कोई कसर छोड़ने को तैयार नहीं थे। उनके नेता ही नहीं बल्कि तीन मेयर पद के उम्मीदवार ही एक साथ नामांकन कक्ष में पहुंच गए। वहां कहासुनी तक हो गई। कई नेता भी हौसला अफजाई में जुटे रहें हालांकि बाद में वहीं नामांकन कक्ष में प्रत्याशी का विवाद संभालते दिखाई दिए।

 

 

इसके बाद नामांकन के लिए कांग्रेस की प्रत्‍याशी प्रेमा अवस्‍थी पहुंची। इनके साथ भी प्रदेश उपाध्‍यक्ष आरपी त्रिपाठी, कोषाध्‍यक्ष सत्‍य कुमार दरवारी, सर्वेश राठौर सेवादल, पूर्व विधायक श्‍याम शुक्‍ला, पूर्व मेयर प्रत्‍याशी अचल मेहरोत्रा, शहर उपाध्‍यक्ष आयूब सिद्दीकी, सहायक स्‍थाई मंत्री अनिल कुमार विश्‍वकर्मा, प्रत्‍याशी के पुत्र आशुतोष अवस्‍थी, शैलेंद्र अवस्‍थी पौत्र विश्रुत सहित दर्जनों लोग नामांकन के दौरान मौजूद रहे। 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement