Baaghi 2 Assistant Director Name Came in Physical Assault

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।  

 

सालों से कूड़ा वाहनों का डीजल बेचने वाले नगर निगम के कर्मचारियों के लिए जीपीएस भारी पड़ रहा है। जीपीएस की निगरानी के चलते अब पूरा खेल बिगड़ रहा है। लिहाजा कई संविदा चालक नौकरी छोड़ कर चले गए। जबकि जीपीएस से छेड़छाड़ में आरोपित कर्मचारी भी निगम प्रशासन के निशाने पर हैं। दरअसल पिछले दिनों जीपीएस के जरिए तमाम कूड़ा गाड़ियों की लोकेशन मिल जाने के कारण डीजल बिक्री का खेल बाधित हो गया था। लिहाजा नगर निगम का व्यय भी कम हुआ। उधर, कुछ चालकों ने जीपीएस में छेड़छाड़ कर निगरानी से बचने का प्रयास किया था, वे भी पकड़े गए थे।

नगर निगम के अधिकारियों के मुताबिक करीब दो सप्ताह पूर्व तेल चोरी के मामले में पकड़े गए व जीपीएस खराब करने में आरोपित कई संविदा कर्मचारी नौकरी छोड़ कर जा चुके हैं। कंप्यूटराइज व्यवस्था के चलते कूड़े की उठान बढ़ी है और वाहन भी लोकेट हो रहे हैं। इसके चलते कार्यदायी संस्था के माध्यम से तैनात कई वाहन चालकों ने काम छोड़ दिया है । अब मुख्‍य अभियंता ने नए ड्राइवरो को लगाने के लिए निर्देश दिया है। नगर निगम के एक अफसर ने बताया कि नगर निगम के कुछ ड्राइवर तेल चोरी में संलिप्त थे, लेकिन जीपीएस डिवाइस लगाने के बाद उनकी चोरी पकड़ी जा रही है। विभाग में जीपीएस डिवाइस का असर साफ दिख रहा है और यह बात सामने निकल कर आ रही है कि लम्‍बे समय से नगर निगम के वाहनों से तेल चोरी का खेल चल रहा था। 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement