Baaghi 2 Assistant Director Name Came in Physical Assault

दि राइजिंग न्यूज़

लखनऊ।

 

सोमवार अपरान्ह दो बजे

स्थान – लेसा भवन ( रेजीडेंसी)

 

लेसा के सिस गोमती मुख्य अभियंता एके सिंह के कमरे में चलता एसी लेकिन साहब नदारद। इंतजार के बाद वह आए लेकिन कुछ ही समय में वीडियो कांफ्रेसिंग का हवाला देकर चले गए। पास में ही अधीक्षण अभियंता (प्रथम मंडल) आनंद प्रकाश शुल्क के कक्ष में कमोबेश ऐसी ही स्थिति। बड़े साहब लोग ही दफ्तर से लापता तो मीटर खंड के अधिशासी अभियंता अफसर हुसैन भी गायब। अपनी शिकायत लेकर पहुंचे उपभोक्ता ने अभियंताओं की बावत जानकारी लेने का प्रयास किया तो पता चला कि अभियंता लोग मंगलवार को प्रमुख सचिव की वीडियो कांफ्रेंसिंग की तैयारी में व्यस्त हैं। मगर कहां इसकी जानकारी किसी को नहीं थीं।

 

बड़े अधिकारियों की गैरमौजूदगी में रेजीडेंसी कार्यालय में कामकाज की स्थिति का सहज अंदाजा लगाया जा सकता है। लेसा की बिलिंग से लेकर कनेक्शन व वसूली सारा रिकार्ड अब आनलाइनकंप्यूटर पर रहता है। ऐसे में सवाल यही है कि ये रिकार्ड क्या कहीं बाहर भी उपलब्ध रहता है। वर्ना बैठक में प्रस्तुत डाटा अधिकारी अपने कार्यालयों में तैयार करते या बनाते। हालांकि इसका जवाब देने को लेसा का कोई छोटा बड़ा अभियंता तैयार नहीं है। अलबत्ता लेसा में कार्यरत संविदा ठेकेदारों के पास उपलब्ध बकायेदारों व खराब मीटरों की सूची से रिकार्ड किस तरह से बाहर पहुंच रहा है, इसका प्रमाम हर डिवीजन में उपलब्ध हैं।

भाड़े में उपभोक्ता का शोषण

चौक क्षेत्र में दो दिन पहले एक उपभोक्ता के परिसर में मीटर की जांच करने पहुंचे मीटर रीडर से जब आईकार्ड मांगा गया तो आईकार्ड तो जरूर था लेकिन जारी करने वाले किसी अभियंता –अधिकारी का नाम पता नहीं था। इस बावत चौक खंड के अधिशासी अभियंता अजयकुमार से पूछा गया तो उन्होंने संविदा का कर्मी तो बताया लेकिन टेस्ट खंड से भेजे जाने की बात कही। यही नहीं। मीटर रीडर के साथ दूसरा व्यक्ति कौन था, यह दोनों स्थान पर जानकारी नहीं थीं। सवाल यह है कि आखिर बाहरी लोग कैसे उपभोक्ता के परिसर में घुस रहे हैं। लेसा अधिकारी उन्हें अधिकृत परिचय पत्र क्यों नहीं दे रहे हैं। जबकि आए दिन बाहरी लोगों द्वारा उपभोक्ताओं से वसूली किए जाने की शिकायतें मिल रही हैं।

किसी भी संविदा कर्मचारी को दिए जाने वाले परिचय पत्र पर संबंधित एजेंसी के प्रोपराइटर तथा जिस खंड में काम कर रहा है, वहां के अधिशासी अभियंता का हस्ताक्षर होना चाहिए। अगर ऐसा नहीं है तो फिर कार्ड का कोई महत्व नहीं है। उपभोक्ताओं से भी अपील है कि घर पर लेसा का नाम लेकर आने वाले परिसर में प्रवेश नहीं करने दें।

आशुतोष कुमार

मुख्य अभियंता लेसा  

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement