Home Lucknow News How To Remove Stress From Mind

चुनी हुई सरकारों की अनदेखी कर रही है बीजेपी: अरविंद केजरीवाल

दिल्ली: नतीजों से पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बुलाई बैठक

IndVsSri: भारत को जीतने के लिए 216 रनों का लक्ष्य मिला

राजकोट में CM रुपाणी की जीत के लिए जैन समाज के लोगों ने किया हवन

गाजियाबाद: वसुंधरा में 5वीं क्लास के स्टूडेंट से छेड़छाड़ के आरोप में एक अरेस्ट

अल्‍जाइमइर से बचा सकता है नियमित दिमागी व्यायाम 

Lucknow | 06-Dec-2017 17:40:31 | Posted by - Admin

 

  • 60 से 80 वर्ष के बीच लोगों को होता है अल्‍जाइमर
   
How to Remove Stress from Mind

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

याददाश्त कमजोर होने लगे, व्‍यक्ति को बोलने में कठिनाई आने लगे और व्‍यवहार बदला हुआ लगे तो समझों की व्‍यक्ति अल्‍जाइमर से पीडि़त है। लगभग 65 वर्ष की उम्र में होने वाली इस बीमारी से बचने के लिए आवश्यक है कि व्यक्ति नियमित व्यायाम करें और साथ ही मस्तिष्क का भी व्यायाम करें यानी ऐसे कार्य करें जिसमें उसे दिमाग जरूर लगाना पड़े। केजीएमयू के मनो चिकित्‍सक श्रीकांत श्रीवास्‍तव ने बताया कि अल्जाइमर डिमेंशिया का ही एक भाग है। इस बीमारी के लक्षणों को सर्वप्रथम 3 नवम्बर 1906 को एलोइस अल्जाइमर द्वारा पहचाना गया। अल्जाइमर के लक्षण समान्यत: 60-80 साल के उम्र के लोगों मे देखा जाता है। उन्होंने डिमेंशिया के कारणों को बताते हुए कहा कि 60 से 80 प्रतिशत डिमेंशिया अल्जाइमर की वजह से होता है, वैस्कुलर डिमेंशिया 10 प्रतिशत अन्य कारणों में डिमेंशिया लेवी बाडी के साथ मिक्स डिमेंशिया, पार्किंसन डिजीज और अन्य है। उन्होंने अल्जाइमर डिजीज के बारे में बताया कि इसका कारण न्यूरोडीजनरेशन, प्रोग्रेसिव डिमेंशिया, न्यूरोनल डेथ, एमालोइड प्लाक, न्यूरोफिब्रिलरी टैंगल्स और मुख्यत: न्यूरो कार्टीक्स, लिम्बिक सिस्टम और सब कार्टिकल रेंज ब्रेन की वजह से होता है।

इन लोगों को होता है ज्यादा खतरा

 

उन्होंने बताया कि अल्जाइमर रोग उन व्यक्तियों में होने का ज्यादा खतरा रहता है जो मधुमेह, हृदय रोग, मोटापा से पीडि़त हो साथ में ही जिन व्यक्तियों के सिर में चोट लगी हो। अल्जाइमर अनुवांशिक बीमारी भी है। उन्होंने बताया कि अल्जाइमर मस्तिष्क का एक मन्द घातक रोग है जो 65 वर्ष से अधिक आयु के दस में से एक व्यक्ति को प्रभावित करता है। यह रोग धीरे-धीरे लगता है जब प्लैक और टैंगल कहे जाने वाले दो असामान्य प्रोटीन खण्ड मस्तिष्क में जमा हो जाते हैं और मस्तिष्क के कोषाणुओं को नष्ट कर देते हैं। यह हिप्पो कैम्पस में शुरू होते हैं और धीरे-धीरे हिप्पो कैम्पस को नष्ट कर देते हैं।

ये हैं लक्षण

 

इस बीमारी से ग्रसित व्यक्तियों की देख भाल बहुत जरूरी है। इससे व्यक्ति की याददाश्त कमजोर हो जाती है, शब्दों के बोलने या लिखने में मुश्किल आना, व्यवहार में बदलाव आदि आने लगता है। इससे बचने के लिए शारीरिक श्रम करें, शरीर और दिमाग का व्यायाम करें, दिमाग के व्यायाम का अर्थ है अपने दिमाग को चलाते रहे यानी ऐसे कार्य करें जिनमें दिमाग पर जोर देना पड़े, साथ ही धूम्रपान न करें, मदिरापान न करें, व्यस्त रहें और सामाजिक क्रियाकलाप में भाग लें। ऐसे मरीजों की देखभाल बहुत जरूरी है।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news




sex education news