Golmal Starcast Will Be in Cameo in Ranveer Singh Simba

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

राजधानी में जाम और सड़कों पर होती पार्किंग को लेकर भले ही एलडीए ने कोई सकारात्‍मक कदम ना उठाया हो लेकिन रिहायशी क्षेत्रों में होटल बनाने के लिए नक्‍शा जरूर पास करना शुरू कर दिया है। ताजा मामला महानगर में एक होटल निर्माण का है। यहां पर एक कारोबारी ने दो मंजिल बेसमेंट के साथ चार मंजिल होटल का नक्‍शा पास कराया और निर्माण भी शुरू करा दिया। इससे भले ही आसपास के घरों को नुकसान पहुंच हो रहा हो लेकिन एलडीए के अधिकारी इसे अनुमन्‍य नियम बताते हुए सही ठहरा रहे हैं।

इस तरह अलीगंज में भी डॉ. दीपक अग्रवाल के निर्माण को भी सही बताया जा रहा है। अधिकारियों ने बताया कि अब कोई भी बिल्‍डर रिहायशी क्षेत्रों में आसानी से होटल, मल्‍टीलेवल कॉम्‍प्‍लेक्‍स आदि बना सकता है। इसके लिए सरकार ने नियमों में ढील दी है।

 

 

महानगर स्थित इस होटल के नक्‍शे को एलडीए ने 29 नवंबर 2016 में परमिट संख्‍या 40860 पर स्‍वीकृति दी थी। इसके आधार पर यहां डबल बेसमेंट के साथ चार मंजिला निर्माण होना है। तीन ओर से आसपास माकान बने हैं जबकि ठीक सामने से सड़क गुजर रही है। निर्माण कराने वाले ने प्रशासन मार्च से मई 2017 के बीच 4500 घन मीटर मिट्टी खोदने की अनुमति ली इसके बाद बालू निकलने लगी तो फिर 1999 घन मीटर बालू खोदने की अनुमति ले ली। दूसरी बार अक्‍टूबर से 18 जनवरी तक खनन करने के लिए 2800 घन मीटर मिट्टी खोदने का परमिट लिया गया। इस दौरान 1503 मीटर घनमीटर बालू निकलने पर खनन अधिकारी ने 55 रुपया प्रति घन मीटर के हिसाब से 82 हजार 665 रुपये की रॉयल्‍टी जमा कराई।

 

 

खनन अधिकारी ने बताया कि परीक्षण के बाद पता चला है कि यहां पर अब तक नौ मीटर की खोदाई की गई जो पूर तहर से नियमानुसार है। इसी तरह आइटी चौराहे से कपूरथला की ओर जाने वाले मार्ग पर रेलवे लाइन स्थित ओवर ब्रिज के पास भी बेसमेंट खोदकर अस्‍पताल का निर्माण किया जा रहा है। होटल के लिए खोदे जा रहे बेसमेंट से आसपास के घरों में दारारें पड़ गईं हैं। कई कमरों के दरवाजे तक नहीं बंद हो रहे हैं। जबकि प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि नक्‍शे के आधार पर खनन की अनुमति दी गई है। मौका मुआयना करके घरों के दीवारों को देखा गया है और इस मामले पर एलडीए को पत्र लिखकर जबाव मांगा गया है। तो वहीं एलडीए के नक्‍शा प्रभारी राहुल श्रीवास्‍तव फाइल देखने के बाद ही कुछ कहने का हवाला दे रहे हैं।

 

 

“रिहायशी क्षेत्रों में मल्‍टीलेवल व्‍यावसायिक गतिविधियां हो सकती हैं। जब से सरकार ने नियमों में संशोधन किया है तब से ऐसे क्षेत्रों में होटल, हॉस्पिटल आदि बन सकते हैं। महानगर छन्‍नीलाल चौराहे के पास और आइटी चौराहे से कपूरथला की ओर जाने वाले ओवर ब्रिज के पास इसी नियम के तहत निर्माण हो रहे हैं। यहां पर बेसमेंट खोदने का नक्‍शा भी पास कराया गया है इसलिए दोनों ही निर्माण नियमानुसार ही हैं।”

राहुल श्रीवास्‍तव

अधिशासी अभियंता, मैप

 

 

“खनन को लेकर एलडीए से रिपोर्ट मांगी गई है। इसके लिए पत्र भेजा जा चुका है। रिपोर्ट आते ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। एलडीए के नक्‍शे के अनुरूप ही खनन की अनुमति दी गई थी।”

अविनाश सक्‍सेना

एडीएम, वित्‍त-राजस्‍व, खनन प्रभारी

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement