Home Lucknow News Case Of School Fee Issue In Lucknow

यूपी इन्वेस्टर्स समि‍ट को संबोधित कर रहे हैं PM मोदी

PNB घोटाला केस पर PIL दाखिल करने वाले याचिकाकर्ताओं को SC की फटकार

पुलिस को सरेंडर करने से पहले बोले अमानतुल्लाह- कुछ भी गलत नहीं किया

नीरव मोदी के वकील बोले- अच्छी टर्नओवर के चलते LoU जारी हुए

पंचकूला कोर्ट में गुरमीत राम रहीम की सबसे बड़ी राजदार हनीप्रीत की पेशी आज

ऐसे पढ़ेगा तो कैसे बढ़ेगा इंडिया

Lucknow | 14-Sep-2017 11:28:15 AM | Posted by - Admin

  • मेधा पर कर रहा वार, शिक्षा का व्यापार
  • फीस माफ ने होने पर प्रशासन की शरण में पहुंचे अभिभावक

   
Case of School Fee Issue in Lucknow

दि राइजिंग न्यूज

संजय शुक्ल

लखनऊ।

   

करीब 87.40 फीसद अंक के साथ दसवीं परीक्षा पास करने वाले साहिल के लिए 12वीं की पढ़ाई मुश्किल दिखाई दे रही है। सिटी मांटेसरी स्कूल में पढ़ने वाले साहिल की ग्यारहवीं क्लास में फीस माफ हो गई थी, लेकिन बारहवीं में स्कूल प्रबंधन ने फीस माफ करने से इंकार कर दिया। स्कूल के इस रुख के बाद परेशान साहिल के अभिभावक अपनी समस्या लेकर कलेक्ट्रेट पहुंच गए। सिटी मजिस्ट्रेट को अपनी पूरी समस्या बता कर मदद की गुहार लगाई है।

सिटी मजिस्ट्रेट ने भी होनहर बच्चे के भविष्य को देखते हुए स्कूल प्रबंधन को इस प्रकरण का निदान करने के निर्देश दिए हैं। सवाल यह है कि सरकार के तमाम दावों के बावजूद बच्चे ऐसे पढ़ेंगे तो फिर वह क्या शिक्षा पाएंगे।  

 

 

सिटी मजिस्ट्रेट के यहां शिकायत लेकर पहुंची छात्र साहिल की मां रागिनी पाल ने कहा है कि उनके पति व्यापार करते हैं। साहिल पहली कक्षा से सिटी मांटेसरी स्कूल में पढ़ रहा था। कारोबार ठीक चलने के कारण आठवीं तक साहिल रिफंडेबिल स्कीम के तहत स्कूल में शिक्षा पाता रहा। इसके एवज में स्कूल को एकमुश्त लाखों रुपये दिए गए। कक्षा नौ व दस में पूरी फीस देकर बच्चा स्कूल गया। इसके बाद कारोबार की स्थिति खराब होने के कारण 11वीं में स्कूल ने फीस माफ कर दी थी। अब जब बच्चा अंतिम वर्ष में है तो स्कूल ने फीस माफ करने से इंकार कर दिया है। ऐसे में बच्चे के भविष्य पर प्रश्नचिन्ह लग गया है। खास बात यह कि स्कूल प्रबंधन रिफंडेबिल स्कीम से हमेशा से इंकार करता रहा है।

 

करीब सवा सात हजार रुपये हैं मासिक फीस

सिटी मांटेसरी स्कूल में कक्षा 12 में पढ़ रहे साहिल की फीस करीब सवा सात हजार रुपये मासिक है यानी की साल करीब 75 हजार रुपये फीस और कापी-किताब ड्रेस आदि अलग से। हालांकि इस प्रकरण में एक परिवार से फीस माफ कराने के लिए प्रशासन से सहयोग और स्कूल प्रबंधन की हठधर्मिता की शिकायत की है, लेकिन इससे तमाम निजी स्कूलों में मनमानी फीस वसूली की तस्वीर भी सामने आ जाती हैं।

अमीनाबाद के ही एक अभिभावक ने बताया कि प्रदेश सरकार व मुख्यमंत्री ज्यादा फीस वसूली पर अंकुश लगाने का दम भरते रहे, लेकिन जिस स्कूल की शिकायत हुई है, वहां पर ट्यूशन फीस में भी बीस फीसद तक इजाफा कर दिया गया।

 

 

"पीड़ित अभिभावकों ने स्कूल की बावत अपनी शिकायत दी थी। इस संबंध में स्कूल प्रबंधन को  प्रकरण निस्तारित करने को कहा गया है। यह सुनिश्चित कराया जाएगा कि बच्चे की शिक्षा प्रभावित न होने पाएं।" 

विवेक श्रीवास्तव

सिटी मजिस्ट्रेट 

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll


https://www.therisingnews.com/slidenews-personality/a-day-with-doctor-sarvesh-tripathi-1668



Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news