Home Lucknow News Case Of Illegal Construction In India

जज लोया मौत केसः SC ने कहा- नहीं होगी सीबीआई जांच

जज लोया मौत केसः SC ने कहा- जजों के बयान पर शक की वजह नहीं

दिल्ली पुलिस पीसीआर पर तैनात एएसआई धर्मबीर ने खुद को गोली मारी

दिल्ली: केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह ने की IOC प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात

बिहार: पटना के एटीएम में कैश ना होने से स्थानीय लोग परेशान

अपना ही आदेश पूरा कराने में लग गए 10 माह      

Lucknow | 10-Jan-2018 18:55:00 | Posted by - Admin

    

  • चिनहट का मामला, संयुक्‍त सचिव ने की कार्रवाई

   
Case of Illegal Construction in India

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

लखनऊ विकास प्राधिकरण को अपना ही आदेश पूरा कराने में 10 माह लग गया। चिनहट में हुए अवैध निर्माण को ध्‍वस्‍त करने के लिए 28 मार्च 2017 को आदेश दिया गया था। लेकिन अभियंताओं की सेटिंग ऐसी हुई कि यहां पर प्रथम तल में स्‍लैब डालने की तैयारी भी होने लगी। इसी मनमानी के चलते ध्‍वस्‍तीकरण का आदेश पूरा होने में 10 माह लग गए। हालांकि जब विहित प्राधिकारी विश्‍वभूषण को मामले की जानकारी हुई तो उन्‍होंने मजिस्‍ट्रेट एसीएम चतुर्थ अमित सिंह और जोनल अधिकारी प्रताप मिश्र के साथ इस अवैध कॉम्‍प्‍लेक्‍स को ध्‍वस्‍त करा दिया। इस दौरान किसी भी स्थिति से निपटने के लिए भारी संख्‍या में पुलिस बल तैनात रहा। कॉम्‍प्‍लेक्‍स ध्‍वस्‍त करने में दो जेसीबी और कई मजदूर लगाए गए थे। इसके साथ ही सिस गोमती विहित प्राधिकारी डॉ. महेंद्र मिश्र ने 11 अवैध निर्माणों को ध्‍वस्‍त करने का आदेश जारी किया है। 

चिनहट थाना क्षेत्र के मटियारी चौराहे के पास मुन्‍ना और आयूब खान ने दिसंबर 2016 से अवैध कॉम्‍प्‍लेक्‍स का निर्माण शुरू कराया था। इसका ना तो नक्‍शा पास हुआ ना ही पार्किंग के लिए जगह छोड़ी गई। इतना ही नहीं यहां पर बिना सेट बैक के ही मल्‍टी कॉम्‍प्‍लेक्‍स का निर्माण किया जा रहा था। जैसे-तैसे मामला तत्‍कालीन विहित प्राधिकारी एके सिंह के न्‍यायालय में पहुंचा तो 28 मार्च 2017 को ध्‍वस्‍तीकरण का आदेश भी जारी हो गया लेकिन अवैध निर्माण को लेकर पहले से ही संदेह के घेरे में रहने वाले अभियंताओं ने यहां भी खेल कर डाला और ध्‍वस्‍तीकरण की फाइल ही दबा गए। इतना ही नहीं अभियंताओं से सेटिंग कर के अवैध निर्माण कराने वाले ने प्रथम तल की स्‍लैब डालने की योजना भी बनाने लगे थे। मौके पर बेसमेंट एवं भूतल की स्‍लैब पहले से ही डाल दी गई थी। हालांकि यह मामला विहित प्राधिकारी विश्‍वभूषण मिश्र की जानकारी में आया तो उन्‍होंने 10 जनवरी को ध्‍वस्‍तीकरण की डेट रख दी। फिर मजिस्‍ट्रेट अमित सिंह और भारी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर जाकर अवैध कॉम्‍प्‍लेक्‍स को ध्‍वस्‍त करा दिया।

इनके खिलाफ जारी हुआ ध्‍वस्‍तीकरण का आदेश-

विहित प्राधिकारी महेंद्र मिश्र ने बताया कि न्‍यायालय द्वारा कुल 11 निर्माणों को अवैध घोषित किया गया है। इनमें सलीम, निवासी बंगला बाजार एसएस स्‍टील बिजनौर रोड, हितेश्‍वर तिवारी निवासी सेक्‍टर एल खजाना चौराहा, दीपक निवासी 27/2 गोखले मार्ग हजरतगंज, कमर हुसैन आवास संख्‍या 195/43 जगत नारायण रोड वजीरगंज, सायरा 192-15 न्‍यू बस्‍ती मशकगंज वजीरगंज, भगवान कुमारी निवासी 182/120 मशकगंज नई बस्‍ती वजीरगंज, रानी कुमुद सिंह कंवरपुर हाउस पंडित नगर वजीरगंज, सोईन निवासी न्‍यू बस्‍ती मशकगंज 192-15 के सामने वजीरगंज, इसरार शारदा इंस्‍टीट्यूट के पास व सामने गोसाईंगंज सुल्‍तानपुर रोड, मेसर्स कृष्‍णा मेडिकल सेंटर चंद्रावती कबीरपुर इंदिरा नहर के पास सुल्‍तानपुर रोड और कुलदीप कोहली मस्‍तेमऊ कुटिया सुल्‍तानपुर रोड थाना गोसाईंगंज शामिल हैं। इन सभी को 25 दिन का समय दिया गया है ताकि वह अपने आप अवैध निर्माण को ध्‍वस्‍त कर सकें। निर्धारित समय में ऐसा ना करने पर कानूनी कार्रवाई करते हुए बलपूर्वक ध्‍वस्‍त कराया जाएगा।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll

Merchants-Views-on-Yogi-Government-One-Year-Completion




Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news