Second Teaser of Movie Sanju  Released

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

लखनऊ विकास प्राधिकरण के लाख दावे और सख्‍ती करने के बाद भी अवैध निर्माणों पर रोक नहीं लग रही है। यही कारण है कि चौक के सुभाष मार्ग से लेकर हरदोई रोड, अलीगंज के चांदगंज, सीतापुर,कानपुर, रायबरेली, सुलतानपुर रोड में लगातार अवैध निर्माण जारी हैं। प्राधिकरण के सचिव मंगला प्रसाद सिंह जहां ऐसे निर्माणों पर कार्रवाई का आदेश दे रहे हैं तो वहीं सख्‍ती की आड़ में उन्‍हीं के अभियंता अवैध निर्माण को शह दे रहे हैं।

 

अवैध निर्माण रोंकने के लिए प्राधिकरण ने कई कदम उठाए लेकिन सभी नियम बाबुओं और अभियंताओं के आगे बौने होते गए। तत्‍कालीन सचिव जय शंकर दुबे ने शासनादेश के आधार पर तीन महीने पूरे होने के बाद अवर अभियंताओं के क्षेत्र बदलने के आदेश दिए थे। ताकि अवैध निर्माण की जानकारी हो सके और पारदर्शिता आ सके। इसके लिए अभियंता को अपने क्षेत्र के अवैध निर्माण और मानचित्र के विपरीत हुए निर्माणों सूची आने वाले अभियंता को सौंपनी थी। ताकि उस अभियंता के बाद कोई गलत निर्माण होता पाया जाए तो उसकी जवाबदेही नए अभियंता पर तय हो।

हालांकि मामले पर कोई सुधार हो पाता कि अभियंताओं ने इसकी तोड़ निकाल ली। इसके लिए उन्‍होंने आपसी साठगांठ करते हुए एक दूसरे के अवैध निर्माणों पर पर्दा डालने लगे।

 

प्राधिकरण के अभियंताओं की कारगुजारी के कारण ही सुभाष मार्ग में कई गलत निर्माण हो गए। कुछ तो इसमें ऐसे हैं जो नक्‍शा के विपरीत बनाए हुए हैं जबकि कुछ ऐस निर्माण हैं जो पूरी तरह से अवैध हैं। यहां के किनारा बाजार के पास एक बहुमंजिला कॉम्‍प्‍लेक्‍स बन रहा है लेकिन क्षेत्रीय अभियंताओं ने एक बार भी यह जानने का प्रयास न‍हीं किया कि यहां पर क्‍या और कैसे निर्माण हो रहा है। यह कोई एकमात्र जगह नहीं है बल्कि हरदोई रोड दुबग्‍गा,सीतापुर मार्ग आदि जगहों पर धड़ल्‍ले से अवैध निर्माण हो रहा है।

अलीगंज के चांदगंज मंदिर के सामने एक भाजपा नेता ने अवैध निर्माण करा डाला। जब यह निर्माण कार्य शुरू हुआ था तो अधिशासी अभियंता प्रताप मिश्र ने सचिव के आदेश पर कार्रवाई करते हुए कॉम्‍प्‍लेक्‍स को सील तो कर दिया लेकिन निर्माण कार्य में कोई असर नहीं पड़ा। देखते ही देखते यह निर्माण पूरा हो गया और रंगाई-पोताई भी हो गई। प्रताप मिश्र ने सीलिंग के बाद कोई निर्माण ना होने का दावा किया था लेकिन उन्‍हीं के आख के नीचे निर्माण कार्य पूरा हो गया और प्राधिकरण देखता रह गया।

 

महानगर रेलवे क्रॉसिंग के पास बहुमंजिला इमारत का निर्माण कार्य पास हुआ। बिल्‍डरों ने निर्माण कराना शुरू किया लेकिन नक्‍शे के विपरीत निर्माण करते हुए मनमुताबिक बिल्‍डिंग बना डाली। इसके ऊपर भी जब निर्माण होने लगा तो तत्‍कालीन सचिव अरुण कुमार ने रोक लगाते हुए एफआईआर तक करवा दी थी, लेकिन हुआ कुछ नहीं और यहां भी अभियंताओं ने रंगाई-पुताई करा डाली।

अमीनाबाद की मुमताज मार्केट के मेन गेट से लेकर बाजार के अंदर तक अवैध निर्माण होते रहे लेकिन किसी भी अभियंता को यहां के अवैध निर्माण नहीं दिखे। क्‍योंकि जब सेटिंग पूरी है तो उन्‍हें अवैध निर्माण कैसे दिखे। दबाव पड़ा तो अभियंता ने इन्‍हें पुराने अवर अभियंता के समय का निर्माण कार्य बताकर पल्‍ला झाड़ लिया जबकि वास्‍तविकता तो यह है कि अवर अभियंता एक दूसरे की अवैध निर्माणों पर मिट्टी डालने का काम कर रहे हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll