Actress Natasha Suri to Make Her Bollywood Debut

दि राइजिंग न्‍यूज

अमित सिंह

लखनऊ।

 

खुद पर काम का दबाव बताने वाले अभियंता कितना कार्य करते हैं इसकी हकीकत लेसा के आंकड़े बताते हैं। ताजा दस्तावेजों के अनुसार लेसा के कुल उपभोक्ताओं में से 63610 बिल आइडीएफ, 24323 बिल आरडीएफ में तथा 24 बिल सीडीएफ में चल रहे हैं। यदि आपका बिल गलत हो गया है तो आप स्वयं उसे लेकर खण्डीय अभियंता व सहायक अभियंता के कार्यालय में जाइए। इस पर अभियंता आपके परिसर व मीटर की जांच कराएंगे जिसके बाद ही बिल ठीक किया जाएगा। इस प्रक्रिया के बीच यदि उपभोक्ता का आर्थिक शोषण हो तो कोई आश्‍चर्य की बात नहीं, क्योंकि बिल संशोधन विद्युत विभाग में कमाई का एक बड़ा जरिया है। लेसा के आंकड़ों पर नजर डालें तो सबकुछ ऑन लाइन यानि अभियंताओं के कम्प्यूटर पर मौजूद है।

कौन से बिल गलत हैं वह किस कारण गलत हो गए और इससे विभाग को कितने राजस्व की हानि हो रही है सारी जानकारी कम्प्यूटर पर मौजूद है। इसके बावजूद लेसा अभियंता उसका सुधार नहीं करना चाहते, कारण यह कि यदि वे स्वयं बिलों में सुधार करेंगे तो उससे होने वाली कमाई नहीं हो सकेगी। यही कारण है कि माह दर माह उपभोक्ताओं को गलत बिल दिया जाता रहता है। लेसा के वरिष्ठ अधिकारियों की ओर से कई बार इस प्रकार के निर्देश व सूचियां जारी की जाती रही हैं जिसमें गलत बिलों को सुधारने की बात कही गयी लेकिन खण्डीय अभियंताओं ने अपने निजी हितों के चलते उनमें सुधार नहीं किया। समीक्षा बैठकों में सवाल पूछे जाने पर यह जवाब देकर वह खुद को बचा लेते हैं कि काम का दबाव है जिस कारण बिल नहीं सुधार पाए।

आंकड़े- जुलाई 2017 तक

 

खण्ड का नाम                  आइडीएफ                  आरडीएफ

 

  • हुसैनगंज                      2977                    1112

  • राजभवन                     1626                     1465

  • अमीनाबाद                    3327                     756

  • चिनहट                      4024                     1717

  • गोमती नगर                  338                       361

  • ऐशबाग                      1262                      751

  • राजाजीपुरम                   330                      888

  • अपट्रान                     1667                       697

  • सेस-                       15450                     1336

  • सेस-2                       8254                      1722

  • सेस-                      31760                       172

  • महानगर                    2360                       678

  • यूनिवर्सिटी                   337                        169

  • सीतापुर रोड                 2002                        587

  • आलमबाग                   260                        902

  • कानपुर रोड                  798                         700

  • वृन्दावन                     187                         579

  • ठाकुरगंज                   6644                        1319

  • रेजीडेंसी                    3790                         889

  • चौक                       2839                         776

  • इन्दिरा नगर                1790                        2077

  • मुंशीपुलिया                  601                          468

  • डालीगंज                   3219                          855

  • रहीमनगर                 1732                            601

  • बीकेटी                    6036                           2706

 

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

The Rising News

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll