Kareena Kapoor Will Work With SRK and Akshay Kumar in 2019

दि राइजिंग न्‍यूज

आशीष सिंह

लखनऊ।

 

सरकार आवश्‍यक सेवाओं को आधार कार्ड से जोड़ने के लिए सख्‍त हो चली है, मगर कारतूस जैसे अत्‍यन्‍त संवेदनशील उत्‍पाद की बिक्री में आधार तो दूर पते की भी कोई पूछताछ नहीं है। ताजा मामला चौक में देखने को मिला है यहां नादान महल रोड़ स्थि‍त पब्लिक गन हाउस से 2136 कारतूस अलग-अलग शहरों में रहने वालों को बेच दिए गए।

 

 

अब इनका नाम पता चल पा रहा है और ना ही दिए गए मोबाइल नंबर से कोई जानकारी मिल रही है। यह मामला तब पता चला जब एसीएम संतोष सिंह ने इस दुकान पर छापेमारी की। अब दुकानदार के खिलाफ नोटिस भेज कर एक सप्‍ताह में खरीदारों की जानकारी देने के आदेश दिए हैं।

 

चौक स्थित प्रो मेसर्स पब्लिक गन हाउस मो. जावेद पुत्र वहाब अली 253/6 नादान महल मार्ग के रहने वाले संचालित करते हैं। निकाय चुनाव के मद्देनजर एसीएम ने यहां जांच की तो पता चला कि बिना सही जानकारी किए ही 2136 कारतूसों को ऐसे खरीदारों को दे दिया गया जिनका पता ही सत्‍यापित नहीं हो पा रहा है। खरीदारों के फोन नंबर भी बंद बता रहे हैं या फिर पहुंच से बाहर हैं।

 

 

यह हाल कोई एक आध खरीदार का नहीं बल्कि सभी खरीदारों का सत्‍यापित पता ना तो लिया गया और ना ही लिखा गया है। सघन जांच के बाद पता चला कि रायफल के 360 कारतूस, 22 बोर के 50 कारतूस, रिवाल्‍वर के 155 कारतूस, पिस्‍टल के 895 कारतूस और बंदूक के 676 कारतूस सहित कुल 2136 कारतूस बाराबंकी, उन्‍नाव, बहराइच, सीतापुर जैसे संदिग्‍ध पतों पर बेचे गए हैं।

 

इसके बाद एसीएम ने ठाकुरगंज स्थित शिवम गन हाउस के यहां जांच की तो पता चला कि काफी मात्रा में कारतूस के खोखे ही गायब हैं। निवाजगंज ठाकुरगंज के वैभव आर्म कॉर्पोरेशन सहित अन्‍य दुकानों को भी जांचा गया लेकिन यहां पर स्‍टॉक ठीक मिला। हालांकि सुरक्षा के मद्देनजर कुछ आवश्‍यक निर्देश दिए गए हैं।

 

 

“पुराने लखनऊ में तीन दुकानों की जांच की गई थी। जिनमें प्रो. मेसर्स पब्लिक गन हाउस के यहां कारतूसों की बिक्री संदिग्‍ध पतों पर दिखाई गई है। प्रारंभिक पूछताछ में दुकानदार ज्‍यादा जानकारी नहीं दे पाया।  संबंधित एलआइयू को भी पत्र लिखकर पता सत्‍यापित करवाने का प्रयास किया जा रहा है। शिवम गन हाउस से कारतूस के खोखे गायब हैं। इन दोनों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। अन्‍य दुकानों में सुरक्षा संब‍ंधित खामियां मिली उन्‍हें भी दूरी करने के निर्देश दिए गए हैं। ”

संतोष सिंह

एसीएम, द्वितीय

 

 

“बंदूक की दुकान से कारतूसों के बिना पहचान के दिए जाने का मामला पता चला है। दुकानदार को नोटिस भेज कर जवाब मांगा गया है। यदि समय से और सही जानकारी नहीं दे पाता तो उसके दुकान का लाइसेंस रद्द होगा। बिक्री करने वाले प्रत्‍येक दुकानदार को खरीदार की जानकारी रखनी होगी वह चाहे जिस फॉर्मेट में हो।”

कौशल राज शर्मा

जिलाधिकारी

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll