Home Lucknow News Case Of Adulteration In Lucknow Market Time Of Navratri

छत्‍तीसगढ़: सुरक्षाबलों ने 9 नक्‍सलियों को गिरफ्तार किया

आसाराम केस: गृह मंत्रालय ने राजस्थान, गुजरात और हरियाणा को जारी की एडवाइजरी

कास्‍टिंग काउच पर रणबीर कपूर ने कहा- मैंने कभी इसका सामना नहीं किया

कर्नाटक चुनाव: सिद्धारमैया ने किया नामांकन दाखिल

तेलंगाना: जीडीमेटला इलाके के गोदाम में लगी आग

नवरात्रि बीतने को, नहीं हुई एक भी सैंपलिंग   

Lucknow | Last Updated : Mar 22, 2018 06:31 PM IST

                    

  • फिर सवालों में एफएसडीए की कार्यप्रणाली

  • धड़ल्‍ले से बिक रहा मिलावटी खाद्य पदार्थ 

   
Case of Adulteration in Lucknow Market time of Navratri

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

खाद्य एवं औषधि सुरक्षा विभाग (एफएसडीए) की कारगुजारियों के कारण राजधानी में मिलावटी खाद्य पदार्थ धड़ल्‍ले से बेचा जा रहा है। सामान्‍य दिनों में बाजार से नमूने लेने की बात तो छोड़िये यहां नवरात्रि पर्व समाप्‍त होने को आया लेकिन एफएसडीए ने बाजार से एक भी सैंपल नहीं लिया। परिणाम स्‍वरूप लोग में भी मिलावटी खाद्य पदार्थ खाने को मजबूर हैं। मामले पर सीएफओ सुरेश मिश्र जल्‍द ही अभियान चलाने की बात कर रहे हैं तो वहीं एडीएम पश्चिम संतोष वैश्‍य ने एफएसडीए अधिकारियों से जवाब मांगा है।

 

18 मार्च से शुरू हुए नवरात्रि के पहले ही चौक, अमीनाबाद, कैसरबाग, महानगर सहित कई दुकानों में फुटकर बाजार सज गया। यहां पर धड़ल्‍ले से कुट्टू का आटा, सिंघाड़े का आटा, साबूदाना, पनीर, रिफाइंड, मूंगफली, तमाम तरह के फल जैसी कई खाद्य पदार्थ बेचे जा रहे हैं। यहियागंज बाजार में तो सड़क के किनारे ही पूरा बाजार लगा रहता हैं। यहां से उड़ने वाली धूल मिट्टी इन खाद्य पदार्थों में मिलती रहती है। साथ ही साथ अन्‍य खाद्य पदार्थों में तमाम तरह की मिलावट जारी है।

व्रत के दौरान इन वस्‍तुओं की तेजी से मांग बढ़ती है। इससे ना केवल आपूर्ति प्रभावित होती है बल्कि मिलावटी भी बड़ी तेजी से होती है। जिससे इन खाद्य पदार्थों में बहुत सी मिलावटें हो जाती हैं। लोगों को सही और स्‍वस्‍थ्‍य खाद्य पदार्थ मिलें इसके लिए एफएसडीए के 28 इंस्‍पेक्‍टर मौजूद हैं, लेकिन भ्रष्‍टाचार और सुस्‍त रवैए के कारण सभी अपनी मनमानी कर रहे हैं। हालांकि बीते वर्षों में इसी विभाग द्वारा नवरात्रि के पूर्व ही कई सैंपल लेकर सामान तक नष्‍ट कराया जाता रहा है। पूरे घटनाक्रम पर मुख्‍य खाद्य अधिकारी ने भी स्‍वीकार किया कि अभी तक नवरात्रि में एक भी सैंपल नहीं लिया गया। इतना ही नहीं डीओ टीआर रावत अपना सीयूजी फोन ही बंद किए हैं तो वहीं सहायक आयुक्‍त शशि पाण्‍डेय ने भी कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। नोडल अधिकारी और एडीएम पश्चिम संतोष वैश्‍य ने एफएसडीए अधिकारियों को फटकार लगाते हुए रिपोर्ट मांगी है।  

मोहनलालगंज मामले में एफएसडीए ने दी रिपोर्ट-

मोहनलालगंज से 25 हजार लीटर दूध के टैंकर गायब होने के मामले में एफएसडीए के डीओ टीआर रावत ने नोडल अधिकारी को रिपोर्ट सौंप दी है। अपनी रिपोर्ट में उन्‍होंनें बताया कि टैंकर, ड्राइवर और नौकर को एफएसडीए ने पुलिस को सौंप दिया था। मामले पर एडीएम ने बताया कि विभाग द्वारा अपनी रिपोर्ट सौंपी गई है। हालांकि अभी तक वह पूरी रिपोर्ट नहीं देख सकें हैं लेकिन प्रारंभिक बिंदुओं से पता चलता है कि एफएसडीए की कार्रवाई उचित थी।

नवरात्रि के दौरान मिलावटी खाद्य पदार्थ लोगों को ना मिले इसके लिए प्रबंध किया जाएगा। एफएसडीए के अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वह बाजार में बिकने वाले पदार्थों का सैंपल लें और जो सामान खराब है उसे तुरंत नष्‍ट कराएं साथ ही प्रतिदिन की रिपोर्ट भी प्रस्‍तुत करें। मोहनलालगंज में गायब हुए टैंकर मामले पर एफएसडीए ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। इस रिपोर्ट का पूरा ध्‍ययन किया जा रहा है। इसके बाद ही आगे की कार्रवाई होगी।

संतोष कुमार वैश्‍य

एडीएम पश्चिम


" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...






खबरें आपके काम की