Neha Kakkar Reveald Her Emotional Connection with Indian Idol

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

लखनऊ विद्युत सम्‍पूर्ति प्रशासन लेसा सौ फीसदी बिलिंग और लाइन लॉस कम करने में सफल नहीं हो पा रहा है। लेसा में सौ प्रतिशत बिलिंग का दावा बीते एक दशक से किया जा रहा है, लेकिन सफलता नहीं मिल पा रही है। चहेतों को बिलिंग का ठेका सौंपने वाले अफसर बेहतर परिणाम के लिए कड़ाई भी नहीं कर पा रहे हैं।

 

 

वर्तमान समय में बिलिंग एजेंसियों की लापरवाही से करीब सवा लाख उपभोक्ताओं को बिजली का बिल नहीं मिल रहा है। उपभोक्ता उपकेंद्रों के लगातार चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इस कारण से उपभोक्ताओं को जहां परेशानी झेलनी पड़ रही है तो वहीं विभाग को भी करोड़ों के राजस्व का नुकसान उठाना पड़ रहा है।

बिलिंग प्रतिशत बढ़ाने के लिए बीते कई सालों से किए जा रहे प्रयास को देखते हुए यह आंकड़ा कुछ संतोषजनक कहा जा सकता है, लेकिन मनमाफिक सफलता अभी दूर ही है। अधिकारी उपभोक्ताओं को बिल न मिलने पर बिलिंग एजेंसियों व संबंधित अफसरों की बैठक बुलाकर निर्देश जारी करने का कोरम पूरा कर देते हैं।

 

 

केवल 6.4 लाख की ही बिलिंग

लेसा में 8.09 लाख उपभोक्ता हैं, इसमें सितंबर महीने में केवल 6.4 लाख उपभोक्ताओं की ही बिलिंग हो पाई। बाकी बचे 1.25 लाख उपभोक्ताओं को नियमित बिजली बिल नहीं मिल रहे हैं। इस पर लेसा के मुख्‍य अभियंता ने अफसरों और बिलिंग एजेंसियों को सौ प्रतिशत बिलिंग के निर्देश दिए हैं।

ऐसा नहीं है कि यह स्थिति पहली बार सामने आई है, बल्कि हर महीने की बिलिंग की कहानी यही है। मामला सामने आने पर एजेंसियों व संबंधित अफसरों की बैठक कर थोड़ी बहुत सख्‍ती कर मामले की इतिश्री कर दी जाती है।

 

 

बिलिंग काउंटर पर जमा कर रहे बिल 

लेसा अधिकारियों के मुताबिक जिन उपभोक्ताओं के यहां मीटर रीडर बिल बनाने नहीं जा रहे हैं वे उपभोक्ता काउंटर पर आकर बिल बनवा रहे हैं और जमा कर रहे हैं। अधिकारियों के मुताबिक सितंबर महीने में 3.87 लाख उपभोक्ताओं ने बिलिंग काउंटर पर बिल जमा किया है। आंकड़े लिए जाने तक ऑनलाइन जमा हुए बिलों को मिलाकर 4.33 लाख लोगों ने ही बिजली बिल जमा किए थे।

 

 

ऑनलाइन की बजाय काउंटर पर भरोसा

तकनीक के विस्तार के बावजूद राजधानी में लोग ऑनलाइन बिजली बिल जमा करने से बच रहे हैं। उपभोक्ता ऑनलाइन की बजाय बिलिंग काउंटर पर बिल जमा करना ज्यादा मुफीद समझ रहे हैं। सितंबर महीने के आंकड़े इस बात को सही साबित कर रहे हैं।

सितंबर माह में 4.33 लाख जमा हुए बिलों में 46355 उपभोक्ताओं ने ऑनलाइन और 3.87 लाख उपभोक्ताओं ने बिलिंग काउंटर पर बिल जमा किए। ऐसा विद्युत विभाग द्वारा बेहतर तकनीकी सुविधा न दिए जाने के चलते हो रहा है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll