Akshay Kumar and Priyadarshan Donated to Save Flood Affected People in Kerala

दि राइजिंग न्यूज

सभी फोटो- कुलदीप सिंह

लखनऊ। 

 

प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर दावे भले ही कुछ भी हों, लेकिन हकीकत रोज ही दिखाई दे जाती है। रायबरेली, प्रतापगढ़ की बात करना दूर राजधानी में ही मरीजों को एंबुलेंस मिलना तो दूर अस्पताल में स्ट्रेचर तक नहीं मिल पा रहे हैं। बुधवार सुबह भी सरकारी स्वास्थ्य सेवा की बदहाली सिविल अस्पताल में देखने को मिली। जहां पर एक्सीडेंट में घायल मरीज के परिवार वाले उसे टेंपो से अस्पताल लेकर पहुंचे, लेकिन वहां पर उन्हें स्ट्रेचर तक नहीं मिला। बाद जैसे तैसे उन्हें डॉक्टर तक ले जाया गया।

भुक्तभोगी अमरजीत सिंह के परिवार वालों ने बताया कि अमरजीत का एक्सीडेंट कुछ दिन पहले हुआ था। उसके बाद उनके पैर पर प्लास्टर बांधा गया था। बुधवार को सिविल अस्पताल में डॉक्टर को दिखाने पहुंचे थे। जैसे-तैसे टेंपो से वह अस्पताल से पहुंच गए, लेकिन वहां उन्हें स्ट्रेचर तक नहीं मिला। परिवार वाले तमाम वार्डब्वाय से लेकर डाक्टरों तक स्ट्रेचर दिलाने की गुजारिश करते रहे, लेकिन कोई मदद नहीं हुई।

 

 

 

बाद में परिवार वाले उन्हें जैसे-तैसे गोद में उठा कर डॉक्टर के पास ले गए। उसके बाद उन्हें इलाज मिला। खास बात यह है कि राजधानी में अस्पतालों के इस हाल को देखते प्रदेश में सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। 

 

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll