Hrithik Roshan Career Updates

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

शनिवार को बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर कहा कि चुनावी फायदे के लिए “बजरंगबली और अली” का विवाद पैदा करने वाली ताकतों से सावधान रहने की जरूरत है। इसके साथ ही मायावती ने देशवासियों को रामनवमी की शुभकामनाएं दी।

मायावती ने कहा कि ऐसे समय में जब लोग श्रीराम के आदर्शों का स्मरण कर रहे हैं, तब चुनावी स्वार्थ के लिए बजरंग बली और अली का विवाद और टकराव पैदा किया जा रहा है। ऐसा विवाद पैदा करने वाली ताकतों से सावधान रहने की जरूरत है। बीएसपी सुप्रीमो ने जलियांवाला बाग के शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा, जलियांवाला बाग त्रासदी के आज 100 वर्ष पूरे हो गए। आजादी के लिए अपने प्राणों की आहूति देने वाले शहीदों को श्रद्धा-सुमन अर्पित और उनके परिवारों के प्रति गहरी संवेदना। उन्होंने कहा, काश, भारत सरकार इस अति-दुःखद घटना के लिए ब्रिटिश सरकार से माफी मंगवाकर देश को संतोष दिलाने में सफल हो पाती।

आजम खान ने बजरंग बली को दिया नया नाम

गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी के नेता और रामपुर से लोकसभा प्रत्याशी आजम खान ने शुक्रवार को रामपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए “बजरंग अली” का नया नारा दे डाला। आजम खान ने एक जनसभा में पहुंचे लोगों से “बजरंग अली” का नारा भी लगवाया। उन्होंने कहा, आपस के रिश्ते को अच्छा करो, अली और बजरंग में झगड़ा मत कराओ, मैं तो एक नाम देता हूं बजरंग अली।

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए आजम खान ने कहा कि "मेरा तो दिल कमजोर नहीं हुआ। योगी जी, आपने कहा था कि हनुमान जी दलित थे। फिर किसी ने कहा हनुमान जी ठाकुर थे। फिर पता चला कि वे ठाकुर नहीं थे, वे जाट थे। फिर किसी ने कहा कि वे हिंदुस्तान के थे ही नहीं, वे तो श्रीलंका के थे। एक मुसलमान एमएलसी ने कहा कि हनुमान जी मुसलमान थे। तब जाकर झगड़ा ही खत्म हो गया। अब हम अली और बजरंग एक हैं।"

इसके बाद उन्होंने कहा "बजरंग अली, तोड़ दो दुश्मन की नली, बजरंग अली ले लो जालिमों की बलि।"

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement