Ali Asgar Faced Molestation in The Getup of Dadi

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

 

भारत में 2010 के बाद से एचआइवी संक्रमण के नए मामलों में 46 प्रतिशत की कमी आई है और एड्स (एक्वायर्ड इम्यूनो डेफिशियेंसी सिन्ड्रोम) के कारण होने वाली मौतों की संख्या में भी 22 फीसदी की कमी दर्ज की गई है। चिकित्सकों का कहना है कि कुछ सरल उपाय अपनाकर इस बीमारी पर लगाम लगाई जा सकती है।

नोएडा स्थित जेपी हॉस्पिटल के डिपार्टमेन्ट ऑफ ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन, हिस्टोकॉम्पेटिबिलिटी एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी के एसोसिएट डायरेक्टर डॉ।  प्रशांत पाण्डे का कहना है कि एड्स, एचआइवी के कारण होता है। इस सिन्ड्रोम में शरीर की बीमारियों से लड़ने की ताकत कमजोर हो जाती है, जिससे व्यक्ति बड़ी आसानी से किसी भी संक्रमण या अन्य बीमारी की चपेट में आ जाता है।

सिन्ड्रोम के बढ़ने के साथ लक्षण और गंभीर होते चले जाते हैं। हालांकि, कुछ सरल उपाय अपनाकर इस गंभीर बीमारी से बचा जा सकता है।

  • बॉडी फ्लूड से बचें- किसी भी अन्य व्यक्ति के खून या अन्य बॉडी फ्लूड से दूर रहें, अगर आप इसके संपर्क में आते हैं, तो त्वचा को तुरंत अच्छी तरह धोएं। इससे संक्रमण की संभावना कम हो जाती है।

  • ड्रग्स के इन्जेक्शन और नीडल शेयर करना- कई देशों में ड्रग्स के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सिरिंज को शेयर करना एचआइवी फैलने का मुख्य कारण माना जाता है। यह एचआइवी के अलावा हेपेटाइटिस का भी कारण हैं। इसलिए हमेशा साफ और नई नीडल ही इस्तेमाल करें।

  • गर्भावस्था- एचआइवी संक्रमित गर्भवती महिला से उसके बच्चे में एचआइवी का संक्रमण हो सकता है। इसके अलावा स्तनपान कराने से भी एचआइवी का वायरस बच्चे में जा सकता है। हालांकि, अगर मां उचित दवाइयां ले रही है तो यह संभावना कम हो जाती है।

  • खून चढ़ाने/रक्ताधान के दौरान सुरक्षा बरतना- स्वयं सेवी रक्तदाताओं के खून की एनएटी जांच के बाद किसी को खून देना एचआइवी को फैलने से रोकने का सुरक्षित तरीका है।

  • दवाइयों का सेवन ठीक से न करना- एचआइवी के मामले में डॉक्टर की सलाह के अनुसार दवाइयां लेना जरूरी है, अगर आप कुछ खुराकें छोड़ देते हैं तो इलाज में रुकावट आ सकती है इसलिए पूरी खुराक लें। एचआइवी से पीड़ित लोगों को अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए, नियमित रूप से व्यायाम करें, सेहतमंद आहार लें और धूम्रपान न करें। साथ ही नियमित रूप से अपने डॉक्टर से मिलते रहें।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement