Updates on Priyanka Chopra and Nick Jones Roka Ceremony

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

गर्मी और स्टूडेंट्स के रिजल्ट के बीच एक बड़ा कनेक्शन है। वैज्ञानिकों का कहना है कि गर्म मौसम के चलते बच्चों के ग्रेड्स गिर जाते हैं। उन्होंने पाया कि गर्मी के चलते बच्चे स्कूल में पढ़ नहीं पाते और घर पर भी होमवर्क पर कॉन्सनट्रेट नहीं कर पाते।

जैसे-जैसे गर्मी बढ़ती है, बच्चों का मन पढ़ाई में लगना कम हो जाता है और उनका रिज़ल्ट बिगड़ने लगता है। ये दावा अमरीका में हुए एक अध्ययन में किया गया है। यहां के एक करोड़ स्कूली बच्चों पर 13 साल तक ये स्टडी की गई। इन बच्चों पर किए गए टेस्ट के नतीजों का विश्लेषण हावर्ड, यूसीएलए और स्टेट ऑफ जार्जिया की टीमों ने किया। गर्मी के मौसम में परीक्षा देने वाले बच्चे हमेशा घुटन भरी गर्मी लगने की शिकायत करते हैं। स्टडी में शामिल एक प्रोफेसर जोशुआ गुडमैन ने कहा, “टीचर और छात्र इस समस्या से जूझते हैं, इसलिए वो पहले से इस बारे में जानते हैं।” शोध करने वालों का मानना है कि स्कूल और माता-पिता कभी इस बात पर ध्यान ही नहीं देते कि क्लासरूम में अगर बहुत गर्मी होती है तो इसका नकारात्मक असर छात्रों के प्रदर्शन पर पड़ता है।

गर्मी के नुकसान

रिसर्च में कई छात्रों ने अपने अनुभवों के बारे में बताया कि गर्मी की वजह से वो क्लास में या होमवर्क करते वक्त ध्यान नहीं लगा पाते हैं। उन्हें घबराहट होने लगती है और वो परेशान हो जाते हैं।

विशेषज्ञों ने विश्लेषण कर ये पता लगाया कि साल के औसत तापमान में होने वाली हर 0.55 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोत्तरी के चलते छात्रों की सीखने की क्षमता में 1% की कमी आ जाती है। जब तापमान 21 डिग्री से ज़्यादा हो जाता है तो पढ़ाई पर गर्मी का असर नज़र आने लगता है। 38 डिग्री तापमान के बाद तो ये असर और बढ़ जाता है। हालांकि ठंड के दिनों में छात्रों के प्रदर्शन पर कोई असर नहीं पड़ता।

तो गर्मी से कैसे निपटा जाए?

छात्रों और शिक्षकों के लिए गर्मी एक स्वभाविक समस्या है। विशेषज्ञ इसका सामाधान ए सी यानी एयर कंडिशनर को बताते हैं। स्टडी कहती है कि, “हो सकता है कि एयर कंडिशन लगाने से स्कूलों का बजट कुछ बढ़ जाए लेकिन हमारा अनुमान है कि एयर कंडिशनर का फायदा इससे ज़्यादा होगा।"

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll