Second Teaser of Movie Sanju  Released

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क

 

इन दिनों देश की राजधानी और उसके आस पास के क्षेत्र में सभी लोग एयर पोल्लुतिओं से परेशान हैं। किसी को आंखों में जलन तो किसी को गले में इन्फेक्शन की समस्‍या का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में जेपी अस्पताल में “पल्मोनरी एण्ड क्रिटिकल केयर मेडिसिन” के सीनियर कन्सलटेन्ट डॉक्‍टर ज्ञानेंद्र अग्रवाल ने कहा है, “बेहतर होगा इस समय जहां तक हो सके घर के अंदर रहें”।
 


नवम्बर से लेकर जनवरी तक घर के बाहर करने वाली गतिविधियां जैसे दौड़, जॉगिंग, साइक्लिंग, जिम और सुबह के समय किए जाने वाले व्यायाम न करें। इस स्मॉग (धुंध) के चलते विजिबिलिटी बेहद कम हो गई है जिससे सड़क दुर्घटना के आसार बढ़ गए हैं। इसके अलावा जिन लोगों को अस्थमा है और खास कर बच्चे और बुजुर्ग, हमेशा अपने साथ इन्हेलर रखें। दिल के मरीज और न्यूरोलॉजिक बीमारियों के मरीज भी अपना ख्याल रखें क्योंकि यह स्मॉग सीधे कार्डियो-वैस्कुलर सिस्टम को प्रभावित करता है।
 


 डॉ. ज्ञानेंद्र अग्रवाल ने कहा, “हवा में धूल के कारण लोगों में ब्रोंकाइटिस, छाती में कन्जेशन और गले में जलन जैसी समस्याएं बढ़ रहीं हैं। अगर आपको छाती में भारीपन लगे तो भाप लें, इससे आराम मिलेगा।” अग्रवाल ने कहा कि इस समय अपने आहार में विटामिन सी, विटामिन ई और बीटा कैरोटीन का सेवन अधिक मात्रा में करें, क्योंकि ये आपकी प्रतिरक्षी क्षमता बढ़ाते हैं। इसके अलावा प्रसंस्कृत चीनी के बजाए गुड़ का सेवन बेहतर होगा, जो फेफड़ों से प्रदूषकों को बाहर निकालने में मदद करता है।
 


उन्होंने कहा कि अगर फिर भी कोई परेशानी हो तो तुरंत अपने डॉक्टर की सलाह लें। अच्छी गुणवत्ता का मास्क पहनें जो पीएम 2।5 को फिल्टर कर सकता हो, ताकि स्मॉग का सीधा असर आपके फेफड़ों पर न पड़े।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll