Sapna Chaudhary Joins Congress

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

 

गर्भवस्था के दौरान सजना-संवरना महिलाओं के साथ ही उनके आने वाले बच्चे के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। ये हम नहीं बल्कि एक स्टडी में यह बात सामने आई है। स्टडी में यह बात सामने आई है कि गर्भावस्था के दौरान ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना खतरनाक साबित हो सकता है।

दरअसल, एक अध्ययन में यह कहा गया है कि गर्भावस्था के दौरान मॉइश्चराइजर और लिपस्टिक जैसे सौंदर्य प्रसाधनों का इस्तेमाल करने वाली महिलाओं के बच्चों को किशोरावस्था में मोटर स्किल विकार का सामना करना पड़ सकता है। मोटर स्किल विकार के पीड़ितों को नृत्य करने, जिमनास्टिक जैसी गतिविधियों और कुछ मामलों में चलने-फिरने में दिक्कतें आती हैं।

ऐसे किया रिसर्च

एन्वॉयरॉमेंटल रिसर्च नाम की पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में थैलेट (प्लास्टिक रसायन की प्रचुर मात्रा वाले उत्पाद) और गर्भावस्था के आखिरी दिनों के दौरान महिलाओं और उनके बच्चों की तीन, पांच एवं सात वर्ष की आयु के वक्त उनके पेशाब के नमूनों में इसके मेटाबोलाइट के स्तरों को मापा गया। मोटर समस्याओं की स्क्रीनिंग टेस्ट ब्रूइनइंक्स-ओसेरेट्स्की टेस्ट ऑफ मोटर प्रोफिशियेंसी 11 वर्ष की उम्र में कराई गई ताकि चलने-फिरने और जटिल गतिविधियां करने की क्षमता जांची जा सके।

अध्ययन के निष्कर्षों से पता चला कि गर्भावस्था के दौरान मां के थैलेट के संपर्क में आने से बच्चों को किशोरावस्था में चलने-फिरने और जटिल गतिविधियां करने में दिक्कतें पेश आती हैं। अमेरिका की कोलंबिया यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पाम फैक्टर-लिटवेक ने बताया कि हमारे अध्ययन में लगभग एक-तिहाई बच्चों का मोटर स्किल औसत से नीचे था। छोटी-मोटी मोटर समस्याओं की चपेट में आए बच्चों को बचपन में रोजमर्रा की गतिविधियों खासकर खेलने में दिक्कतें आती हैं।  

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement