Actress Neha Dhupia on Her Pregnancy

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क

 

एक शोध में पता चला है कि महिलाओं में पेन किलर मेडिसिन (दर्द निवारक दवाओं) का असर कम होता है। दरअसल पुरुषों की तुलना में महिलाओं के दिमाग की इम्यून कोशिकाएं ज्यादा एक्टिव होती हैं और वे दर्द महसूस कराती रहती हैं। इसी कारण पेन किलर्स भी महिलाओं को राहत नहीं दे पाती।


दिमाग की इम्यून रेसिस्टेंट सेल्स “माइक्रोग्लिया” को जब महिलाओं में रोक कर दिया जाता है तो दर्द निवारक के लेवल में सुधार हो जाता है और दर्द पुरुषों के समान हो जाता है।

रिपोर्ट बताती है कि माइक्रोग्लिया महिलाओं के दिमाग के हिस्सों में ज्यादा एक्टिव होते हैं। गंभीर व पुराने दर्द के इलाज के लिए मारफीन का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन यह दवा अक्सर महिलाओं में कम प्रभावी होती है।

शोधकर्ता हिलेरी डोयले ने कहा कि वास्तव में महिलाओं को पुरुषों की तुलना में समान दर्द से राहत के लिए करीब दोगुना मारफीन की जरूरत पड़ती है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement