FIR Registered Against Singer Abhijeet Bhattacharya For Misbehavior From Woman

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

अगर आप अपने रिलेशनशिप का असली टेस्ट लेना चाहती हैं तो आपको एक बार अपने पार्टनर के साथ जरूर घूमने जाना चाहिए। कई स्टडीज और सर्वे से यह नतीजा निकाला गया है कि जो लोग ज्यादा ट्रैवल करते हैं, वे ट्रैवल ना करने वालों की अपेक्षा ज्यादा खुश रहते हैं। व्यस्त दिनचर्या और नियमित जीवनशैली से ब्रेक मिलना और किसी नई जगह की ताजी हवा से मिलने वाली खुशी का तो एहसास करना तो बहुत आसान है लेकिन रिलेशनशिप पर ये किस तरह असर डालता है, ये समझना थोड़ा मुश्किल है।

 

मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि अपनी कंपैटिबिलटी टेस्ट करने का सबसे बेहतर तरीका है कि आप उस शख्स के साथ ट्रिप पर जरूर जाएं। यूएस ट्रैवल एसोसिएशन ने पाया है कि साथ-साथ घूमने वाले कपल्स, ना घूमने वाले कपल्स के मुकाबले ज्यादा खुश और रोमांचित रहते हैं। आप चाहें अपने रोमांटिक रिलेशनशिप को मजबूत करना चाहते हों या फिर किसी नए रिश्ते को परखना चाहते हों, एक साथ किसी यात्रा पर निकलना सबसे सही फैसला हो सकता है।

आइए जानते हैं कि एक साथ घूमना किस तरह से आपके और आपके पार्टनर के लिए चुनौती भरा हो सकता है और कैसे आने वाले वक्त के लिए भी कैसे ट्रैवलिंग सबसे अच्छी चीज साबित हो सकती है।

 

बातों का सिलसिला-

ट्रैवलिंग करते वक्त आप किसी ना किसी अनजान जगह पर होंगे। प्लेन की सीट से लेकर, रेस्टोरेंट चुनने, लॉजिंग की जरूरतों पर आपकी अपने पार्टनर से लगातार बातचीत होती रहेगी। अगर आपका पार्टनर आपकी जरूरतों और पसंद को नजरअंदाज करता है तो इससे आपके सफर खराब होना तय है। आपका किसी दूसरे टूर या हाइक पर जाने के बजाए आराम करने का मन है तो आप अपने पार्टनर को बता दीजिए। बाद में थकान होने की खीझ में अपने पार्टनर से लड़ने के बजाए और उस पर पछतावा करने से अच्छा है कि आप अपने पार्टनर से अपने मन की बात कह दें। अगर आप लॉजिंग या किसी और चीज को लेकर कंफर्टेबल नहीं हैं तो बोल दें। हो सकता है आपका पार्टनर भी आपकी ही तरह महसूस कर रहा हो। अपनी बात कहना और सामने वाले की बात सुनना किसी भी रिलेशनशिप के लिए सबसे जरूरी चीज है। ट्रैवलिंग के वक्त आप और आपके पार्टनर के बीच यह बुनियादी चीज मौजूद है या नहीं, आप बड़ी आसानी से देख सकते हैं।

समझौते-

ऐसा हो ही नहीं सकता है कि दो लोग हर बात पर एक तरह की सोच रखते हों और उनके बीच कभी भी किसी भी बात को लेकर मतभेद ही ना होता हो। ये सारी चीजें रिश्ते का ही हिस्सा हैं और ऐसी परिस्थितियों में एक चीज सीखना जरूरी है- समझौता करना। हमेशा बीच का रास्ता निकालने की कोशिश करें। कोई भी ऐसे शख्स के साथ घूमना पसंद नही करेगा जो सारे प्लान अपने मन के मुताबिक बनाता हो। किसी बात पर अपनी मर्जी चलवाना तो किसी बात पर अपनी जिद छोड़ देना किसी भी रिश्ते के लिए जरूरी है। यही बातें ट्रैवलिंग पर भी लागू होती हैं।

 

अच्छी-बुरी यादें साझा करना-

पार्टनर के साथ घूमना सबसे सही समय होता है जब अपनी अच्छी और बुरी यादें एक-दूसरे के साथ शेयर कर सकते हैं। आप दोनों एक-दूसरे की मदद कर सकते हैं। फ्लाइट मिस होना, चीजें खोना, बीमारी, चोट लगना, कुछ भी हो लेकिन ये सब कुछ उतना बुरा नहीं लगता है जब आपको हर वक्त कोई सपोर्ट करने के लिए हो। बुरी सी बुरी जगह हो पर नई जगहों पर एक साथ जाने का रोमांच भी अलग ही होता है। सच्चे रिश्ते में भी खराब समय आने पर भी पार्टनर एक-दूसरे का साथ नहीं छोड़ते हैं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll