Actress Neha Dhupia on Her Pregnancy

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क

ज़्यादातर लड़कियां लड़कों के मुकाबले खुद को गणित में कमजोर मानती हैं, जबकि असल में ऐसा है नहीं। एक स्‍टडी में कहा गया है कि केवल आत्‍मविश्‍वास में कमी के कारण उन्‍हें ऐसा लगता है और यही वजह है कि बहुत कम लड़कियां विज्ञान एवं इंजिनीयरिंग में हायर स्टडीज के लिए जाती हैं।

 

 

जहां तक गणित की बात है, लड़कियां खुद को लड़कों से इसमें कमतर मानती हैं।

मुख्य अध्ययनकर्ता लारा पेरेज फेल्कनर का कहना है, "जब हमने गणित में योग्यता की परीक्षा ली तो पाया कि लड़के और लड़कियां बराबर योग्य हैं। इस समानता के बावजूद लड़के खुद को गणित में बेहतर मानते हैं, जबकि लड़कियां खुद को कमजोर समझती हैं।"

 


पिछले 10 सालों में पूरी दुनिया में हायर एजुकेशन ग्रहण करने वाली लड़कियों की संख्या बढ़ी है। इसके बावजूद फिजिक्स, इंजिनीयरिंग, मैथ और कंप्यूटर साइंस से महिलाएं डरती हैं।

समान रूप से योग्य होने के बावजूद जहां लड़के कहीं अधिक आत्मविश्वास से भरे नजर आए, वहीं लड़कियों का आत्मविश्वास कमजोर रहा।

 


“फ्रंटियर्स इन साइकोलॉजी”  मैगज़ीन के एक अंक में प्रकाशित यह अध्ययन अमेरिका में छह वर्षो तक 10वीं कक्षा के विद्यार्थियों पर किया गया।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement