FIR Registered Against Singer Abhijeet Bhattacharya For Misbehavior From Woman

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

 

कहते हैं महिला या तो घर को संवार सकती है या फिर बर्बाद। स्‍त्री में वो ताकत होती है जो अपनी शादी जैसे रिश्‍ते को ढंग से संजो कर घर को स्‍वर्ग बना सकती है। स्थिरता जरूरी होती है। जिस शादी के रिश्ते में स्थिरता नहीं होती, उस रिश्ते में कई सारी परेशानी देखने को मिलती है। इस अस्थिरता का कारण कभी पुरुष तो कभी महिला होते हैं। जब महिलाओं की बात आती है, तो उनके बारे में कुछ बुनियादी कारक हैं जो विवाह के रिश्ते को बर्बाद कर सकते हैं। एक पत्नी को अपनी शादी को संभालने के तरीके के बारे में सावधान रहना चाहिए। विवाह जैसे रिश्ते के टूटने के लिये पत्नियां भी पति के बराबर जिम्मेदार होती हैं। यहां हम बात करेंगे महिलाओं द्वारा की जाने वाली उन गलतियों के बारे में जो अकसर शादी टूटने की वजह बनती हैं।

ऐसी उम्‍मीदें जो संभव ही नहीं

अपनी शादी से पत्नियों की दो तरह की अपेक्षाएं होती हैं- पहला तार्किक और यथार्थवादी, जबकि दूसरा बेतुका और अवास्तविक। पत्नियों की यही बेतुकी और अवास्तविक अपेक्षाएं रिश्ते तोड़ने का काम करती हैं। एक व्यक्ति से पूर्णता की तलाश करना या कुछ ज़्यादा ही उम्मीद कर लेना और जब वह उस मापदंड पर पूरी तरह खरा नहीं उतरता तो उस पर दुख जताना, विवाह को तोड़ने का काम कर सकता है।

 

बेहतर यह होगा कि यदि वह आपकी अपेक्षाओं को पूरा नहीं करता है तो साथ बैठकर चर्चा करें और वास्तविकता को जानने की कोशिश करें। वास्तविकता के आधार पर अपनी उम्मीदों को उड़ान दें, नहीं तो रिश्तों में खटास आना लाज़मी है। अगर आप अपने साथी से उम्मीद कर रहे हैं कि वो आपको खुश रखें तो आप अवास्तविक हो रहे हैं। क्योंकि जब तक आप खुद खुशी महसूस नहीं करेंगी आपको कोई और खुश नहीं कर सकता।

यदि आप अपने पति से अनन्त खुशी लाने की उम्मीद करती हैं तो ना केवल आप उन्हें विफलता की ओर धकेलती हैं बल्कि खुद को भी निराशा की ओर ले जाती हैं। अवास्तविक उम्मीदों का रास्ता ना चुनें, जहां आप जानते हैं कि अंतिम परिणाम आपके रिश्ते के लिए विनाशकारी हो सकता है।

 

व्‍यंग कसना या निराशावादी रुझान

जानबूझकर हर समय अपने साथी पर व्यंग कर उसे नीचा दिखाने से आपका रिश्ता खतरे में पड़ सकता है। ऐसा करने से आपके पति को लगता है कि आप उनका या उनकी राय का सम्मान नहीं करतीं। इस वजह से वो पत्नी से दूरी बनाने लगते हैं और शादीशुदा होने के बावजूद दूसरे रिश्ते में सुकून खोजने लगते हैं।

जब आप हर समय अपने पति को ताने देती हैं या व्यंग्य करती हैं तो ऐसे में वो विचलित हो जाते हैं और उनके सम्मान को ठेस पहुंचता है, जिसे वो संभाल नहीं पाते और रिश्ते टूटने के कगार पर पहुंच जाता है। अपनी आंखों या चेहरे के भाव के ज़रिये अपने पति के प्रति अनादर ना दिखाएं। ऐसा करने से उन्हें लगता है कि अगर कोई दिक्कत है तो उनसे चर्चा करें ना कि घृणा दिखाएं।

 

किसी भी मुद्दे को हल करने का सबसे आसान तरीका बात करना और मिलकर उसे सुलझाना है। पत्नियां आकर्षण का केंद्र बनना पसंद करती हैं, जिसकी वजह से वो आसानी से सुलझाए जा सकने वाले हर मसले को भी मुद्दा बनाने की कोशिश करती हैं लेकिन ध्यान रखें कि ये आपके रिश्ते के लिये सही नहीं है।
 


पति के साथ अंतरंग नहीं होना

कभी-कभी, पत्नियां अपने पतियों के साथ किसी भी अंतरंगता में संलग्न नहीं होती हैं और इससे परेशानी पैदा होती है। पति को आवश्यक यौन संबंध की कमी खलती है। यह विवाह में परेशानी का कारण बनता है और अकसर शादी टूटने के कगार पर पहुंच जाती है।

 

यौन अंतरंगता पुरुषों की ज़रूरत होती है और पत्नी की तरफ से उसे पूरा ना करने पर विवाह में दिक्कतें आती हैं। जब आप अपने पति की सेक्सुअल ज़रूरतों को पूरा नहीं करतीं तो उन्हें लगता है कि आपको उनकी ज़रूरतों का कोई सम्मान नहीं है और वो आपसे दूर होने लगते हैं।

अपने पति के साथ खुश नहीं होना

जब आप यह प्रदर्शित करती हैं कि आप अपने पति से बिल्कुल खुश नहीं हैं तो यह दिखाता है कि विवाह पहले से ही टूट गया है और बस इस पर आप दोनों की मुहर लगानी बाकी है।

 

अगर आप हर चीज़ के लिये अपने पति को दोषी ठहराती हैं तो इससे घर और आप को लेकर उनकी रूचि कम होती जाती है। अपनी सभी परेशानियों के लिए अपने पति को दोषी ठहराना आपके रिश्ते के लिये विनाशकारी साबित हो सकता है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll