Home Up News UP STF Arrested Seven Accused In Case Of UP Sub Inspector Paper Leak

पुलवामा में आतंकियों को पकड़ने के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया है: CRPF

राहुल गांधी ने ट्वीट कर PM से पूछे 3 सवाल, साधा निशाना

जब ट्रंप से पूछा गया कि वो विकास कैसे करेंगे तो उन्होंने कहा मोदी की तरह: योगी

नैतिकता के आधार पर केजरीवाल और उनके MLA इस्तीफा दें: रमेश बिधूड़ी

दबाव में हैं मुख्य चुनाव आयुक्त: अलका लांबा

जेल में बैठकर हैक करवा दिया पेपर

UP | 23-Aug-2017 04:06:13 PM | Posted by - Admin

  • दारोगा भर्ती पेपर लीक मामले का खुलासा                      
  • कुल सात आरोपी जेल के अंदर, 10 लाख पर तय होता था सौदा 

   
UP STF Arrested Seven Accused in Case of UP Sub Inspector Paper Leak

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

हत्‍या के आरोप में जेल में बंद मास्‍टरमाइंड सौरभ जाखड़ ने ऐसा जाल बिछाया कि जेल के अंदर से ही उसने दारोगा भर्ती पेपर ऑन लाइन परीक्षा का पेपर लीक करा लिया। बुधवार को इस मामले में एसटीएफ ने सात आरोपियों ने गिरफ्तार करते हुए जेल भेज दिया है।

 

आईजी एसटीएफ अमिताभ यश ने बताया कि इन आरोपियों ने केवल दारोगा भर्ती लीक ही नहीं की बल्कि देश भर में कई प्रकार के ऑनलाइन पेपर लीक किए हैं। सरगना सौरभ जाखड़ का भाई गौरव आनंद उससे जेल में मिलने आता-जाता था। यहीं से उसने पेपर लीक करने का प्‍लॉन तैयार किया और चार घंटे पहले ही सॉल्‍व पेपर गौरव के पास होता था। इसके बाद वह प्रत्‍येक अभ्‍यर्थी से 10 लाख रुपये की अवैध वसूली करता था। जांच के दौरान पता चला कि पेपर लीक करने वाले गिरोह के सदस्‍य अलीगढ़, मथुरा, आगरा व इलाहाबाद और हरियाणा के पलवल में सक्रिय हैं।

ओम ग्रुप ऑफ इंस्‍टीट्यूशन ने इसी गिरोह से संपर्क करते हुए पेपर हैक कर लिया। आईजी ने एसटीएफ टीम को 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है।

 

 

तीन परीक्षार्थी, तीन कर्मचारी और मध्‍यस्‍थ गिरफ्तार

पेपर लीक मामले में तीन परीक्षार्थियों, तीन कर्मचारियों सहित एक मध्‍यस्‍थ को गिरफ्तार किया गया है। इनमें आगरा में चलने वाले ओम ग्रुप ऑफ इंस्‍टीट्यूशन के मुखिया गौरव आनंद, आईटी हेड बलराम निवासी करीमपुर जिला पलवल हरियाणा, इंस्‍टीट्यूट के ही पुष्पेंद्र, परीक्षार्थी दिनेश कुमार और दीपक कुमार बिचौलिया गौरव खत्री तीनों गढ़ी सूरजमल के थाना टप्‍पल जिला अलीगढ़ के रहने वाले हैं।

 

एक और परीक्षार्थी राकेश कुमार निवासी पाहू थाना कछवा जिला मिर्जापुर का निवासी है। आरोपियों के पास से पांच मोबाइल और नौ सिमकार्ड बरामद हुए हैं। जांच के दौरान सभी आरोपियों को साइबर थाने में पूछताछ के लिए बुलाया गया था। अपराध की पुष्टि होने के बाद इन्‍हें यही से गिरफ्तार करते हुए जेल भेज दिया गया।

 

 

कंपनी ने किया सुरक्षा मानकों से खिलवाड़

ओम ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट से गिरफ्तार आरोपियों ने बताया कि परीक्षा कराने वाली कंपनी ने सुरक्षा नियमों का पालन नहीं किया है। इसलिए इसे हैक किया जा सकता है और उन्‍होंने इसपर काम किया और इसे हैक कर लिया। इसे देखते हुए संपनी के सभी भर्ती प्रक्रिया का सुरक्षा ऑडिट कराया जा रहा है।

 

 

इस तरह होता था पेपर हैक

सरगना सौरभ का भाई गौरव आनंद लोकल सर्वर को हैक करते हुए पेपर लीक कराता था। परीक्षा केंद्र के संचालक से सेटिंग होने के बाद सभी कम्‍प्‍यूटर पर रिमोट एक्‍सेस टूल इंस्‍टाल किया जाता था। इसका यूजरनेम और पासवर्ड वॉट्सएप या एसएमएस से भेज दिया जाता था। इसी के माध्‍यम से गिरोह के पेपर सॉल्‍वर द्वारा अभ्‍यर्थी के टर्मिनल का ऑन लाइन एक्‍सेस प्राप्त करते हुए पेपर को हल कर लिया जाता था। आरोपियों ने बताया कि एनएसईआईटीके लोकल सर्वर को हैक करके भी प्रश्‍न पत्र लीक किया है।

 

 

अभी और होंगे खुलासे

एसटीएफ आईजी ने बताया कि यह तो केवल एक भाग का खुलासा है। इसकी जड़े काफी गहरी हैं इसलिए आने वाले दिनों में अभी कई आरोपी पकड़े जाएगें। सात अभियुक्‍तों से पूछताछ के बाद यह पता चल सकेगा कि अन्‍य राज्‍यों में इनका गैंग कैसे काम कर रहा है। वहां के मास्‍टरमाइंड कौन हैं और कब से वहां पर यह यह सब चल रहा है। जिस कंपनी से परीक्षा करवाई गई है उसकी भी जांच होगी।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll





Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news