Home Kids World Sleep Habits Should Be Improved To Increase The Concentration Level

लोया केस में SC के फैसले से अमित शाह के खिलाफ साजिश बेनकाब- योगी

POCSO एक्ट में संशोधन पर बोलीं रेणुका चौधरी- देर आए दुरुस्त आए

शत्रुघ्न सिन्हा बोले- त्याग और बलिदान की प्रतिमूर्ति हैं यशवंत सिन्हा

केंद्र सरकार अली बाबा चालीस चोर की सरकार है: शत्रुघ्न सिन्हा

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए AIADMK ने उतारे तीन प्रत्याशी

एकाग्रता बढ़ाने के लिए सुधारें बच्चे के सोने की आदतें

Kids World | Last Updated : Oct 11, 2017 01:47 PM IST
   
Sleep Habits Should be Improved to Increase the Concentration Level

दि राइजिंग न्यूज़

आउटपुट डेस्क।

 

एकाग्रता में कमी यानी “हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर, इसका असर कम करने में नींद अहम भूमिका निभा सकती है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़, मडरेक चिल्ड्रेंस रिसर्च इंस्टीट्यूट ने एक शोध में कहा कि हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर के लक्षण 70 फीसदी ऐसे बच्चों में पाए गए, जिन्हें नींद आने में दिक्कत होती है। प्रमुख शोधकर्ता मेलिस्सा मुलरेनी के अनुसार, सोने के समय की नियमित आदतों में सुधार से इस डिसऑर्डर पीड़ित बच्चों में खास अंतर लाया जा सकता है।


 

रिपोर्ट में बताया गया कि जिन बच्चों में अच्छी आदतें होती है, वे रात में सोते समय आम तौर पर बहस नहीं करते और लंबी व अच्छी नींद लेते हैं, जबकि दिन में वे ज्यादा चौकन्ने रहते हैं व कम सोते हैं।


 

"यहां तक कि यदि आप अच्छी तरह से नहीं नींद लेते हैं, तो आप इस डिसऑर्डर के बगैर भी अच्छी तरह से ध्यान केंद्रित नहीं कर पाएंगे। हमारी “बॉडी क्लॉक”, जो हमें सोने के संकेत देती है, वह दिन के उजाले, तापमान व भोजन के समय जैसे बाहरी संकेतों से प्रभावित होती है। अगर आपका रूटीन सेट है, जैसे- यदि आप ब्रश करते हैं और फिर पुस्तक पढ़ते हैं तो आपका शरीर इस रूटीन का आदी हो जाता है और आपके इस रूटीन के अनुसार ही आपको सोने की आवश्यकता महसूस होने लगती है।"


"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555




Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


Most read news


Loading...

Loading...