Home Top News Movement Against Democracy

गुजरात में एक करोड़ की चरस के साथ 2 लोग गिरफ्तार

J-K: अनंतनाग में पुलिस ने राइफल छीनने की कोशिश की विफल

विपक्ष पर PM मोदी का हमला, कहा- कट्टर दुश्मनों को भी बना दिया दोस्त

भ्रष्टाचार के खिलाफ चल रही जांच की वजह से जेल में हैं 4 पूर्व CM: मोदी

राजनीति रिश्ते-नातों के लिए नहीं, बल्कि समाज के लिए कर रहे हैंः PM मोदी

इतिहास से छेड़छाड़ के खिलाफ लोकतांत्रिक तरीके से हो आंदोलन: RSS

Home | Last Updated : Jan 24, 2018 06:18 AM IST

Movement against Democracy


दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

पद्मावत को लेकर देश भर में चल रहे विरोध-प्रदर्शन के बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने भी अपना रुख साफ किया है। संघ ने आशंका जताई है कि फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ की गई है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नाम पर इतिहास के साथ खिलवाड़ गलत है।

आरएसएस के उत्तर पश्चिम क्षेत्रिय संघ चालक भगवती प्रसाद ने कहा है कि इतिहास की गरिमा बनाए रखने के लिए सरकारों को भी ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ करने वालों पर नियंत्रण रखना बेहद जरूरी है। गौरतलब है कि संघ ने सोमवार को यह स्पष्ट किया था कि वह भी नहीं चाहता कि ये फिल्म रिलीज हो।

जनभावना को ध्यान में रखते हुए इतिहास के संदर्भ में जो भी अभिव्यक्त किया जाए, वो राष्ट्रीय हित में होना चा​हिए। प्रसाद ने कहा है कि अभिव्यक्ति की आजादी बताकर यदि कोई ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ करता है और जनभावना या समाज विशेष को ठेस पहुंचाता है, तो समाज भी जनतांत्रिक तरीके से किसी भी प्रकार की ऐतिहासिक छेड़छाड़ के विरूद्ध आंदोलन एवं जन जागरण के लिए स्वतंत्र है।

 

जायसी ने पद्मावत में शामिल की कल्पनाएं

भगवती प्रसाद ने कहा है कि संघ का हमेशा से यही मानाना रहा है कि हमारे राष्ट्र में ऐतिहासिक संदर्भों को राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में, इतिहास सम्मत जन भावना के अनुरूप ही अभिव्यक्त करना चाहिए।

प्रसाद ने कहा कि पूर्व में मलिक मोहम्मद जायसी ने एक ऐतिहासिक कथानक पद्मावत में अपनी कल्पनाओं को शामिल कर दिया था, मगर पात्रों की गरिमा, ऐतिहासिक तथ्य और जनभावनाओं को ध्यान में ही नहीं रखा था।

उन्होनें कहा कि हमारे देश में ऐतिहासिक उपन्यास, कथा, नाट्य, लेखन, मंचन तथा फिल्म निर्माण की अपने देश में लम्बी परम्परा रही है। मलिक मुहम्मद जायसी ने ऐतिहासिक कथानक को ही कल्पना विस्तार दिया है। ऐतिहासिक उपन्यास, कथा, नाट्य, लेखन, मंचन तथा फिल्म निर्माण की अपने देश में लम्बी परम्परा रही है।



" जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555 "


Loading...


Flicker News

Loading...

Most read news


Most read news


rising@8AM


Loading...