Jhanvi Kapoor And Arjun Kapoor Will Seen in Koffee With Karan

दि राइजिंग न्‍यूज

लखनऊ।

 

यूपी इन्वेस्टर्स समिट 2018 के दूसरे दिन आज भारतीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के नेतृत्व में डिफेंस इन्वेस्टर्स सेल बनाए जाने की घोषणा की गई। इस बारे में बताते हुए रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी ने समिट में कहा कि डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाए जाने की दृष्टि से इस सिस्टम का बेहद अहम रोल होगा। टेक्नोलॉजी के साथ डिफेंस के क्षेत्र में आगे काम करना है। इसके लिए एक टास्क फोर्स भी बनाई जाएगी।

 

 

क्‍या बोले मंत्री सतीश महाना?

समिट में कैबिनेट मंत्री सतीश महाना ने अपनी बात रखते हुए कहा कि डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाए जाने के प्रधानमंत्री की घोषणा बहुत ही महत्वपूर्ण है। कानपुर में एयरफोर्स मैन फैक्ट्री पर शोध के क्षेत्र में काम हो रहा है, जिसे मैं करीब से समझ रहा हूं। महाना ने कहा कि कानपुर उत्तर प्रदेश में इंडस्ट्री के लिहाज से बेहद खास है। मैं यहां उद्योगपतियों को आमंत्रित करता हूं।

 

 

क्‍या बोले सीएम योगी?

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समिट में संबोधित करते हुए कहा कि डिफेंस मैनुफैक्चरिंग सत्र में सभी का स्वागत करता हूं, उन्होंने कहा कि श्रीमती निर्मला सीतारमण की मौजूदगी मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। मैं दिल्ली में निमंत्रण देने के लिए गया था तो रक्षा मंत्री जी ने कहा था कि उत्तर प्रदेश में डिफेंस प्रोडक्शन कॉरिडोर की स्थापना यूपी में हो सकती है।

सीएम ने कहा कि एयरोस्पेस के क्षेत्र में जो व्यापक संभावनाएं हैं। यूपी से बड़ा बाजार दुनिया में कहीं नहीं मिलेगा। इसमें रक्षा मंत्री ने उत्तर प्रदेश की दृष्टि से जो विशेष रुचि ली है उसके लिए हम आभारी हैं।

 

 

डिफेंस प्रोडक्शन कॉरिडोर के लिए यूपी व्‍यापक संभावनाएं

मुख्‍यमंत्री योगी ने कहा की यूपी में बहुत व्यापक संभावनाएं हैं। डिफेंस प्रोडक्शन कॉरिडोर के लिए उत्तर प्रदेश में बहुत ही अनुकूल वातावरण है। पूरी दुनिया के अंदर हार्डवेयर क्षेत्र में अलीगढ़ की अपनी एक छवि है, लेकिन उसे कभी प्रमोट नहीं किया गया। ऐसे ही अलग-अलग जिले में इन्वेस्टर्स समिट पूरी डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट की योजना प्रारंभ की है।

 

 

उन्‍होंने कहा कि ईस्टर्न कॉरिडोर और वेस्टर्न कॉरिडोर यूपी से होकर जाते हैं और इन दोनों का मिलन दादरी में होता है। सिंगल विंडो पोर्टल को कल प्रधानमंत्री के द्वारा लागू किया गया है, इसमें 20 विभागों की सेवाएं एक साथ लागू होंगे। लैंड बैंक का डाटा जीआइएस के माध्यम से तैयार कर रहे हैं। वायुयान और एयरोस्पेस के मैन्युफैक्चरिंग के लिए विभिन्न व्यापक संभावनाएं।

 

 

क्‍या बोलीं रक्षा मंत्री?

वहीं, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि डिफेंस के क्षेत्र में अगले 50 साल में क्‍या करना है, इसके लिए आप सुझाव दे सकते हैं। सेना के अधिकारी जो ड्यूटी में हैं वह फिक्की के साथ संपर्क बनाए हुए हैं और इन सब चीजों को लेकर बात कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि हम स्मॉल स्केल इंडस्ट्री से भी बात करेंगे कि रक्षा के क्षेत्र में अगले 50 साल में हम क्या करने जा रहे हैं और क्या कर सकते हैं। अगर आपको लगता है कि कोई ऐसा आइडिया है जो सेना के लिए उपयोगी है तो आप मुझे उसे भेज सकते हैं। हमसे संपर्क कर सकते हैं।

 

 

अंतिम दिन पहुंचे राष्ट्रपति

 

 

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement