Mona Lisa to use her personal sari collection for new show

दि राइजिंग न्यूज़

वाराणसी।

 

16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में निर्भया के साथ हुई घटना को लेकर देश प्रदेश ही नहीं पूरी दुनिया में हंगामा मचा। घटना के पांच साल बाद भी बिटिया के गांव नरही (बलिया) में लोग याद कर सिहर उठते हैं। शनिवार को निर्भया काण्ड की बरसी है। लोगो के जेहन में आज भी घटना जीवंत है।

 

बिटिया के गांव के लोग बताते है कि घटना के बाद कमोवेश सभी दलों के नेता एक से बढ़कर एक आश्वासन देने में जुट गए। प्रदेश सरकार के मुखिया तो बिटिया के गांव में भी पहुंचे और गांव का विकास कराने और निर्भया के परिवार के 5 बेरोजगारों को नौकरी देने की बात कही।

गांव के लालजी सिंह का कहना है कि निर्भया कांड में सुप्रीम कोर्ट ने जो रुख अपनाया उससे समाज में एक सबक लोगों को मिली। उनका मानना है इससे समाज में अपराध करने वालों को एक कड़ी सीख मिलेगी एवं आगे से कोई अपराध करने से डरेगा। इससे एक निर्भया को ही नहीं सैकड़ों निर्भया को उनकी आत्मा की शांति के लिए श्रद्धांजलि है। घटना को याद कर ग्रामीण आज भी कहते है कि बेटियों के साथ दरिंदगी करने वालो को खुलेआम फांसी पर लटका देना चाहिए।

 

ग्राम प्रधान सविता देवी का मानना है कि निर्भया मामले में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाकर साबित कर दिया है कि इस देश में न्याय अभी भी जिंदा है और अपराधी कितना ही शातिर या बलवान क्यों न हो अगर वह कोई अपराध करता है तो उसे उचित दंड भी मिलेगा। ग्रामीणों का कहना है कि बहादुर बिटिया की याद में  हुई सरकारी घोषणाओं को गांव के लोग अभी तक कागजी ही बता रहे हैं।

उनका कहना है घटना के बाद आए मुख्यमंत्री ने जितनी घोषणाएं की थी अभी वह जमीन पर नहीं उतर पाई हैं। बिटिया के नाम पर कॉलेज हो या फिर स्वास्थ्य केंद्र अभी तक कोई खड़ा नही हो पाया। गांव को जाने वाली सड़क भी कई बार बनी लेकिन आज तक उसके गांव तक पहुंचने का एक सुगम रास्ता भी दुर्लभ है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll