Fanney Khan Promotional Event on Dus Ka Dum

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

 

सर्दियों का मौसम में हर उम्र के लोग अपना खास ध्यान रखते हैं लेकिन नवजात शिशु की स्पेशल केयर जिम्‍मेदारी मां की होती है। सर्दियों में चलने वाली ठंडी हवाओं से छोटे बच्‍चे के बीमार होने का खतरा सबसे ज्यादा होता है। ऐसे में यह बहुत जरूरी है कि सर्दी में आप नवजात को ठंडी हवाओं, सर्दी, खांसी और जुकाम जैसी बीमारियों से बचा कर रखें।

 

आपको हम बताएंगे कि कैसे आप सर्दियों में अपने नवजात शिशु की खास तरीके से देखभाल करके उन्‍हें इन समस्‍याओं से बचा सकते हैं।

 

 

इन तरीकों से करें नवजात शिशु की देखभाल-

  • सर्दियों में शिशु की त्वचा को रूखेपन से बचाने के लिए उनकी मालिश जैतून के तेल से करें। इससे बच्चे के रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने के साथ खून का संचार भी अच्छे से होता है।
  • मालिश करने के तुरंत बाद शिशु को न नहलाएं। अधिक सर्दी होने पर शिशु को नहलाने की बजाए साफ तौलिए को हल्के गुनगुने पानी में भिगोकर बच्चे के शरीर को साफ कर दें।
  • सर्दियों में बच्चों को ज्यादा कपड़े पहनाने की बजाए मोटे और आरामदायक कपड़े पहनाएं। सर्दी से बचाने के लिए नवजात को दस्ताने, जुराबे और टोपी जरूर पहना लें।
  • बच्चों को ऊन के कपड़े पहनाते समय सावधानी रखें। शिशु की त्वचा नाजुक होने के कारण ऊन से उसे रैशेज भी हो सकता है। शिशु को सूती कपड़ा पहनाने के बाद ही ऊनी कपड़ा पहनाएं।
  • सर्दियों में शिशु के कमरे में हीटर चलाकर रखें, लेकिन उसे ज्यादा तेज न चलाएं। तापमान में अचानक बदलाव से भी शिशु बीमार हो सकता है।
  • सर्दियों में शिशु को निमोनिया, इंफेक्शन, जुकाम, बुखार और फ्लू का सबसे ज्यादा खतरा रहता है। इसलिए शिशु का समय-समय पर डॉक्टरी चेकअप करवाते रहें।
  • अगर किसी को भी वायरल फीवर, सर्दी-खांसी, जुकाम जैसी समस्या है, तो उसे शिशु के पास न आने दें।
  • शिशु की नैपी समय-समय पर बदलते रहें क्योंकि गीलेपन से संक्रमण फैल सकता है। इसके अलावा शिशु को 15-20 मिनट धूप में जरूर टहलाने लेकर जाएं।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll