Loveratri First Song Release

दि राइजिंग न्‍यूज

आउटपुट डेस्‍क।

 

अक्‍सर सभी पेंरेट्स बच्चों की इन बातों जैसे मुझे नहीं जाना स्कूल, मैं अभी नहीं रूक कर करूंगा होमवर्क, मुझे अभी कार्टून देखना है आदि से परेशान रहते हैं। बच्चों की इन बातों को सुनकर पेंरेट्स उन्हें डांटकर उन पर दबाव डालकर उन्हें जबरदस्ती स्कूल भेज देते हैं या फिर उनसे होमवर्क करवा लेते हैं, जिसका कई बार बच्चों पर बुरा असर पड़ सकता है।

अगर आप भी बच्चों की इन बातों से परेशान हैं तो उन पर दबाव डालने की बजाय उन्हें प्यार से समझाएं। जिससे उनके दिमाग पर बुरा असर भी नहीं पड़ेगा और वह जल्दी से समझ जाएंगे। आज हम आपको ऐसे तरीके बताएंगे, जिसे इस्तेमाल करके बच्चे आपकी बात झट से मान जाएंगे।

अपनी ओर खींचे बच्चे का ध्यान

जब कभी बच्चा टीवी, वीडियो गेम्स देख रहा हो उसे इससे हटाने के लिए दूर से चिलाकर न रोकें बल्कि उसके पास जाकर टीवी और वीडियो गेम्स की आावाज धीमी करके उसे प्यार से इसे बंद करने के बोलें। उनसे बात करने के लिए उनके सामने बैठकर आंखों में आंखे डालकर बात करें। इससे उनका ध्यान आपकी तरफ खींच जाएगा और वह आपकी बात भी सुनेगा।

कहानी के जरिए समझाएं

बच्चों को कहानी सुनना बहुत पसंद होता है। वे अक्सर अपने दादा-दादी से कहानी सुनाने को बोलते हैं। अगर आपका बच्चा भी पढ़ाई की अहमियत नहीं समझता तो उसे डांटकर नहीं कहानियों के जरिए इसका महत्व समझाएं। इससे वे बहुत जल्दी समझ जाएंगे।

“न” की जगह कहें ये

बच्चों को सीधा न सुनना बिल्कुल भी नहीं पसंद होता। उन्हें लगता है आप उनकी बात नहीं मानते। इसलिए अगर वह आपसे किसी चीज को लेने या फिर गेम खेलने को बोल रहे हैं तो उन्हें सीधा न करने की बजाय उनसे बोले पहले होमवर्क कर लें फिर जो मन आया करना। इससे वह खुश होकर जल्दी अपना काम खत्म करेंगे। 

हल्की सजा दें

हल्की का मतलब ये नहीं कि आप उन्हें डांटें बल्कि उन्हें बोले अगर तुमने कहा न माना तो तुम्हें यह चीज बिल्कुल भी नहीं मिलेगी या फिर मैं तुम्हें फेवरट् डिश नहीं बनाकर दूंगी। इससे उन्हें याद रहेगा आपने उन्हें कहना न मानने पर उनकी पसंद की चीज नहीं लेकर दी।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll