Home National News Central Government Step Of Informing Illegal Property

दिल्लीः अमन विहार में एक मां ने अपने 8 महीने के बच्चे की हत्या की

कर्नल पुरोहित के मामले में आज SC में सुनवाई, केस रद्द करने की मांग

कर्नाटकः बेलगांव से विधायक संजय पाटिल के खिलाफ FIR, भड़काउ भाषण का आरोप

एसवीई शेखर की अपमानजनक टिप्पणी, चेन्नई में बीजेपी दफ्तर के बाहर पत्रकारों का प्रदर्शन

कर्नाटकः कांग्रेस नेता एन. वाई. गोपालकृष्णन बीजेपी में शामिल

बेनामी संपत्ति का ब्यौरा दें, एक करोड़ लें  

National | 23-Sep-2017 02:15:06 PM | Posted by - Admin

   
Central Government step of informing illegal property

दि राइजिंग न्यूज़

नई दिल्ली।

 

केंद्र सरकार लोगों की बेनामी संपत्ति का पता लगाने के लिए एक अलग ही योजना बना रही है। सूत्रों के हवाले से पता चला है कि जो भी व्यक्ति बेनामी संपत्ति का ब्यौरा जांच एजंसियों को देगा उसे इनाम में एक करोड़ रुपए दिए जाएंगे। इस योजना को अगले महीने से लागू किया जा सकता है। इसका मतलब साफ है कि अगर आप बेनामी संपत्ति रखने वाले या इस प्रकार की संपत्ति का सौदा करने वालों की सूचना देते हैं तो आप एक करोड़ रुपए इनाम पाकर अमीर बन सकते हैं।

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स (सीबीडीटी) के अधिकारी जो कि इस नीति को बनाने का हिस्सा है उन्होंने कहा कि पहचान छुपाए जाने की शर्त पर बेनामी संपत्ति का ब्यौरा देने वाले को कम से कम 15 लाख और ज्यादा से ज्यादा एक करोड़ रुपए दिया जाएगा।

एक अधिकारी ने बताया कि विभाग द्वारा किसी भी परिस्थिति में सूचना देने वाले व्यक्ति का नाम सामने नहीं लाया जाएगा। अधिकारी ने कहा कि प्रावधान की कमी के कारण पिछले साल बेनामी संपत्ति को लेकर कानून शुरु किया गया था। बेनामी संपत्ति का ब्यौरा देने वाले व्यक्ति को इनाम देना प्रवर्तन निदेशालय, आयकर विभाग और राजस्व खुफिया निदेशालय के लिए सामान्य बात है। इस ऑपरेशन के प्रभावी तरीके के बारे में बात करते हुए अधिकारी ने कहा कि आयकर विभाग और प्रशासन दोनों के लिए ही बेनामी संपत्ति का पता लगाना बहुत मुश्किल काम होता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सीबीडीटी के एक उच्च अधिकारी ने कहा कि अगर हम मुखबिरों की मदद लेते हैं तो इस ऑपरेशन में आसानी और तेजी से कामयाबी हाथ लग सकती है। अगर हम मुखबिरों को इनाम में अच्छी राशि देते हैं तो देशभर में बेनामी संपत्ति रखने वालों को आसानी से पकड़ा जा सकता है। एक बार इस नीति को वित्त मंत्रालय द्वारा अनुमति मिल जाती है तो सीबीडीटी इसे जल्द ही लागू कर देगी।

"जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555








TraffBoost.NET

Rising Stroke caricature
The Rising News Public Poll

Merchants-Views-on-Yogi-Government-One-Year-Completion




Flicker News

Most read news

 


Most read news


Most read news