Uri Team Donate on One Crore Rupees to Pulwama Terrorist Attack Martyr Families

दि राइजिंग न्यूज़

कानपुर।

 

एक ट्यूशन टीचर ने दो सगे भाइयों की इतनी बेहरहमी से पिटाई की क्योंकी वे पोयम नहीं सुना सके। इस पिटाई के बाद दोनों बच्चे इतना घबरा गए कि वे अपने घर पर भी इस बात को नहीं बता सके। जब मां ने उनके शरीर पर पिटाई के निशान देखे तो सच्चाई से पर्दा उठा।

 

क्या है मामला

कानपुर के ग्वालटोली थाना क्षेत्र के रहने वाले महेश गुप्ता अपनी पत्नी नेहा गुप्ता और दो बेटे नमन (8) और अहम् (6) के साथ रहते हैं। वे पल्लेदारी का काम करने के बावजूद अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलवाने के लिए महेश ने दोनों का एडमिशन कान्वेंट स्कूल में करवाया और ट्यूशन भी लगवाया। मां नेहा गुप्ता ने बताया कि बीते बुधवार को नमन और अमन ट्यूशन पढ़ने मिथलेश गुप्ता के घर गए थे। ट्यूशन टीचर मिथलेश गुप्ता ने नमन से इंग्लिश की कोई पोयम सुनाने को कहा लेकिन जब नमन पोयम नहीं सुना सका तो टीचर ने उसकी बांस के डंडे से बेरहमी से पिटाई कर दी। नमन का भाई अमन जब उसको बचाने के लिए आगे आया तो ट्यूशन टीचर ने उसको भी मारा जिससे दोनों बुरी तरह ज़ख़्मी हो गए।

नमन ने बताया कि हम टीचर की पिटाई से इतना घबरा गए थे कि हमने घर पहुंचकर अपनी बात नहीं बताई। जिसके बाद मां नेहा ने देखा कि बच्चे के चेहरे पर चोट के निशान हैं। उससे पूछा लेकिन उसने कुछ नहीं बताया। बच्चे गर्मी के चलते पसीने से भीगे हुए थे। कपड़े उतारने के बाद बच्चों के शरीर पर डंडों से मारे हुए काफी निशान मिले। पूछने पर बच्चों ने बताया की पोयम ना सुना पाने पर ट्यूशन टीचर ने ये हाल किया है। नेहा का कहना है कि पुलिस में शिकायत की तो वह कार्यवाही करने के बजाय वार्ड के पार्षद के दबाव में समझौता करने के बात कहने लगे। शिकायत ग्वालटोली थाने में करने के बाद भी पुलिस ने न तो आरोपी टीचर को अपनी हिरासत में लिया और न ही दोनों बच्चों का मेडिकल परीक्षण कराया। जख्मी हालत में परिजन अपने दोनों बच्चों को लेकर जिला अस्पताल उर्सला पहुंचे लेकिन वहां के डॉक्टर ने अस्पताल में भर्ती करने से मना कर दिया। बच्चों के परिजन डॉक्टर्स से कहते रहे लेकिन उनका ज़रा सा भी दिल नहीं पसीजा और परिजन बच्चों के साथ कई घंटे अस्पताल परिसर में ही बैठे रहे। जब मीडिया कर्मी जिला अस्पताल पहुंचे और कवरेज करने लगे तब जाकर थाना ग्वालटोली पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों बच्चों को अस्पताल में भर्ती करवाया। इसके साथ ही केस दर्ज कर टीचर को हिरासत में लिया।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement