Kareena Kapoor Will Work With SRK and Akshay Kumar in 2019

दि राइजिंग न्‍यूज

कानपुर।

 

कानपुर में आए दिन लोगों के गंगा में डूबने की वारदातों के बावजूद भी प्रशासन नहीं चेत रहा है। गंगा के घाटों के आसपास सुरक्षा को लेकर प्रशासन के दावों की पोल खुलती जा रही है। इधर, भीषण और उमस भरी गर्मी से निजात पाने के लिए लोग नदी का सहारा लेने में जुटे हुए हैं तो वहीं इस कारण किसी न किसी के डूबने की बात सामने आती रहती है। इसी क्रम में रविवार देर शाम को बाबू पुरवा इलाके के सात बच्चे घर से बिना बताए निकले और पहुंच गए गंगा बैराज।

यहां नहाते समय इनमें से छह की डूबने से मौत हो गई। जिसमें तीन के शव देर रात को निकाल लिए गए, जबकि बाकी तीन के शव भी काफी देर बाद निकाले गए, जिन्हें पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

 

नहाने से मना करने पर भी नहीं माने

जानकारी के मुताबिक, बाबूपुरवा निवासी सात दोस्त- अभिषेक, अमन, कैफ, आदित्य, अंशु, बाबा और साहिबे आलम घर से बिना बताए साइकिल से कोहना थाना स्थित गंगा बैराज पहुंच गए। जहां वह साइकिल खड़ी कर गंगा में नहाने के लिए काफी दूर पहुंच गए। लोगों की मानें तो शाम का वक्त था तो उन्होंने बच्चों को नहाने से मना किया था, लेकिन बच्चे नहीं माने।

तीन दोस्‍तों को बचाने के चक्‍कर में तीन और की मौत

अपनी साइकिल खड़ी कर कपड़े उतारकर एक कोने में रखे और पहले तीन लड़के गंगा में नहाने उतरे। जब वह तीनों नहाते-नहाते डूबने लगे तो दोस्तों को डूबता देख तीन और दोस्तों ने भी छलांग लगा दी और बचाने के चक्कर में वह तीन भी गंगा की बीच गहरी धारा में पहुंच गए। जब तक कोई कुछ समझ पाता तब तक छह बच्चे गंगा में समा चुके थे, जबकि एक बच्चा साहिबे आलम जो ज्यादा दूर नहीं था, इसलिए वह बच गया। दोस्तों को डूबता देख बच्चा चिल्लाया जब तक कोई कुछ समझ पाता छह बच्चे डूब गए।

साहिबे इतना घबरा गया था कि उसने घर जाकर इसकी सूचना परिजनों को दी, जिसके बाद हादसे की जानकारी होने के बाद डूबे बच्चों के परिजनों में कोहराम मच गया। सभी का रो-रो कर बुरा हाल हो गया।

उधर, आनन-फानन में वहां मौजूद लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। बच्चों के डूबने की सूचना पर पुलिस के हाथ-पांव फूल गए और मौके पर पहुंचकर गोतखोरों की मदद से रात तक कड़ी मशक्कत के बाद तीन बच्‍चों के शव निकाल लिए गए हैं, जबकि बाकी तीन के शव भी काफी देर बाद निकाले गए।

अलग-अलग बातें कहकर निकले थे बच्‍चे

सभी बच्चों की उम्र करीब 12 से 13 वर्ष बताई जा रही है। बच्चों की मौत से बदहवास परिजनों का कहना है कि वह घर से कहकर गया था कि कोचिंग जा रहा हूं, तो किसी से कहकर गया था कि बस यहीं पार्क तक जा रहा हूं। ऐसे में परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल था।

फिलहाल, मौके पर मौजूद पुलिस ने सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Loading...

Public Poll