Sunny Deol FILM Bhaiyyaji Superhit Teaser Release

दि राइजिंग न्यूज़

कानपुर।

शहर में गणेश चतुर्थी के पर्व को निशाना बनाने की योजना बना रहे हिजबुल मुजाहिद्दीन के सक्रीय सदस्य को देर रात यूपी एटीएस की टीम ने चकेरी पुलिस के साथ गिरफ्तार कर लिया। ये तो एटीएस ने सक्रियता दिखाते हुए उसके मंसूबे पर पानी फेर दिया वरना पता नहीं क्या हो जाता। इस घटना के बाद एक बार फिर कानपुर आतंकवादियों का गढ़ साबित हो गया । शहर के चकेरी थाना क्षेत्र के अंतर्गत अहिरवा स्थित चकेरी मोड़ पर देर रात यूपी एटीएस और चकेरी थाने की संयुक्त टीम ने छापेमारी कर एक मकान से तीन आरोपियों को हिरासत में ले लिया। बताया जा रहा है उसमें एक आतंकवादी था, जो हिजबुल मुजाहिद्दीन संगठन का सक्रीय सदस्य भी था।

 

कानपुर से जुड़े आतंकी संगठनों के तार

कानपुर से जिस थाना क्षेत्र से आतंकी पकड़ा गया है, उसी थाना क्षेत्र में लखनऊ में मारा गया आतंकवादी सैफुल्लाह भी रहता था। सैफुल्ला का एक वर्ष पहले लखनऊ में इनकाउंटर हो चूका है और वह जाजमऊ इलाके में रह रहा था। सैफुल्ला भोपाल ट्रेन ब्लास्ट का मास्टर माइड भी बताया गया था। वहीं एटीएस ने सैफुला कांड के बाद कानपुर से आठ सन्दिग्ध लोगों को पकड़ा था। जिसमें खुरासान मॉड्यूल गौस मोहम्मद भी शामिल था।

 

कानपुर से पकड़े गए आतंकी के बारे में पूरी डिटेल्स पढ़िए

आपको बता दें कि यह मकान उज्यारी लाल यादव का है और इनके मकान में आतंकी पिछले दो महीने से बिना आधार कार्ड और बिना आईडी के रह रहे थे। बताया जा रहा है की एटीएस ने आतंकी के कमरे से कुछ संदिग्ध चीज़े भी बरामद की हैं। इस मकान में लगभग आठ किराएदार हैं। किरायेदार जीएल सरकार ने बताया कि हम पिछले डेढ़ वर्ष से रह रहे हैं। पहले यहां पर दो लोग रहने के लिए आये थे। इस दौरान कभी कभी रात में अन्य लड़के भी आता थे। इन लड़कों ने मोबाइल टावर में काम करने पडोसी आर बी सिंह ने बताया की इस मकान में कई किरायेदार रहते हैं। जिनमे वो लड़के भी था। हम लोगों को कई बार ऐसा लगा की उनकी गतिविधियां कुछ संदिध है। जब कभी वो युवक आते थे तो चार पहिया गाडी से आते थे और हर बार गाड़ी का नंबर अलग अलग होता था।

 

पड़ोसी राम नाथ ने बताया की हम सुबह टहलने के लिए चार बजे उठे थे तो उनके घर के बहार कई पुलिस वाले और कुछ कमांडो भी खड़े थे। उनके हाथो में एक फोल्डिंग सीढ़ी भी थी। साथ में एक युवक को पकड़े हुए थे। सुबह के वक्त की वजह से लोग अपने अपने घरो में थे। उसी दौरान वो लोग उन्हें अपने साथ ले गए।

 

आईडी मांगने पर मिलता था ये जवाब

मकान मालिक उज्यारी लाल यादव ने बताया की ये दो लड़के हमारे यहां करीब दो महीने से किराये पर रह रहे थे। उनसे हमने आई डी मांगी थी तो कहने लगे की लखनऊ में घर है। जब जाएंगे तो लाकर देंगे। दोनों युवको से कई बार आई डी मांगी लेकिन उन्होंने नहीं दिया। उन्होंने अपने को मोबाइल टावर में काम करने वाला बताया था। हमे बाकायदा टाइम से किराया देते थे।

 

डीजीपी ओपी सिंह ने की प्रेस कांफ्रेंस

डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि कानपुर की चकेरी थाने की पुलिस और यूपी एटीएस ने सयुक्त रूप से यह छापेमारी कर हिज्बुल के आतंकी को पकड़ा है। उन्होंने यह भी बताया की इसने अपनी एक फोटो सोशल मीडिया में वायरल की थी जिसमे वह एके 47 के साथ दिखाई दे रहा है। उन्होंने यह भी बताया की कानपुर के मंदिरों की इसने रेकी की थी। इसके मोबाइल से उन मंदिरों के चित्र और वीडियो भी बरामद हुए हैं। यह गणेश चतुर्थी में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में था।

 

पूछताछ में इसने बताया की वह एचएम का सक्रीय सदस्य है और कानपुर आतंकवादी घटना को अंजाम देने के लिए ही  भेजा गया था। कमरुज्जमा अपैल 2017 में कश्मीर में किसी ओसामा नाम के व्यक्ति से संपर्क में आया और उसी के माध्यम से आतंकी संगठन का सदस्य बना। यह आतंकी असम का रहने वाला है। इसने बीए की परीक्षा दी है लेकिन फाइनल में फेल हो गया था। वहीँ इसने कंप्यूटर का कोर्स कर टाइपिंग में डिप्लोमा भी ले चुका है। इसकी शादी असम में हुई थी। इसका एक बेटा है।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement