Anushka Sharma Sui Dhaaga Memes Viral on Social Media

दि राइजिंग न्‍यूज

कानपुर।

 

रविवार को कल्याणपुर अंबेडकरपुरम स्थित एसआइएस हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर के तत्वाधान में अस्पताल परिसर में एक विशाल नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। शिविर का शुभारंभ जे के इंस्टीट्यूट के एक्स डायरेक्टर डॉक्टर आर. के कटियार और हॉस्पिटल के एमडी डॉक्टर आदित्य त्रिपाठी ने किया।

 

 

सुबह से ही इस शिविर का लाभ उठाने के लिए सैकड़ों की संख्या में मरीज अपना रजिस्ट्रेशन करवाने में जुटे रहे और विशेषज्ञों से अपना स्वास्थ्य परीक्षण करवाकर लाभ ले रहे हैं। वहीं, शहर के कई बड़े डॉक्टर्स ने इस शिविर में मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। साथ ही जांचें भी नि:शुल्क की गईं।

 

 

विशेषज्ञों ने किया मरीजों का परीक्षण

हॉस्पिटल के एमडी डॉक्टर आदित्य त्रिपाठी ने बताया कि अस्पताल परिसर में लगे हुए शिविर में अलग-अलग केबिन्स में शहर के 20 विशेषज्ञ लगातार मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण कर रहे हैं। अब तक 150 से ज्यादा मरीजों को परामर्श दिया जा चुका है और आगे भी रजिस्ट्रेशन लगातार जारी हैं। डॉक्टर आदित्य ने बताया कि बारिश के चलते शहर में जगह-जगह जलभराव और गंदगी से बीमारियां पनपने लगी हैं, जिसमें वायरल के मरीज़ बढ़ गए हैं।

वायरल मरीज़ों को यहां आए हुए विशेषज्ञों ने देखा और उनकी नि:शुल्क जांच भी की गई है। यहां केंसर रोग, हड्डी रोग, आंख, दंत रोग, डाइबिटीज़, चेस्ट, पेट, स्त्री रोग, फिजियोथेरेपिस्‍ट जैसे सभी विशेषज्ञों ने मरीजों को उचित परामर्श दिया। डॉक्टर आदित्य ने बताया कि वायरल, मलेरिया और डायरिया जैसी गंभीर बीमारी फैलने को लेकर मरीजों को खास तौर पर सावधानी बरतनी चाहिए।

 

 

उन्‍होंने बताया कि पानी उबाल कर पिएं। फास्ट फूड न खाएं। पानी अपने साथ लेकर जाएं। हाथ-पैर साफ होने चाहिए। वायरल बुखार आने पर तुरंत चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए।

 

 

कैंसर कंट्रोल करना है तो खानपान में करें सुधार

वहीं, जे .के इंस्टीट्यूट के एक्स डायरेक्टर डॉ. आर के कटियार ने बताया कि यदि मरीज की कैंसर की पहली और दूसरी स्टेज पता चल जाए तो इसको कंट्रोल किया जा सकता। मगर, इसके लिए तंबाकू, सिगरेट, पान मसाला को छोड़ना होगा। जिस तरह से लोग लगातार इन चीजों को अपने मुंह मे रखे रहते हैं, उससे शरीर के अंदर धीरे-धीरे हार्डनेस बनने लगता है और वह कैंसर का रूप ले लेता है। इससे बचाव के लिए व्यक्ति को इन सबका सेवन छोड़ना होगा और अपने खान-पान में सुधार करना होगा।

 

 

होते रहने चाहिए ऐसे शिविर

उन्‍होंने बताया कि स्पाइसी न खाएं जो सीजनल फ्रूट्स हैं, उसमें एंटी ऑक्सीडेंट मिलते रहते हैं। वह मरीजों के लिए ठीक है। जब मरीज थर्ड और फोर्थ स्टेज पर पहुंच जाता है तब क्रिटिकल हो जाता है। इसलिए जीवन बहुत अनमोल है, इसकी अहमियत को समझें।

 

 

डॉक्‍टर कटियार ने आगे कहा कि आज एसआइएस अस्पताल ने मरीजों के लिए स्वास्थ्य शिविर लगाया है। ऐसे शिविर होते रहने चाहिए, इससे जागरुकता बढ़ेगी और मरीजों को अच्छा परामर्श भी मिल सकेगा।

ये डॉक्‍टर्स रहे मौजूद

इस अवसर पर हॉस्पिटल के एमडी डॉक्टर एचएन सिंह, डॉक्टर मानव लूथरा, डॉ. हिमांशु, डॉ. आरती, डॉ. रेणुका, डॉ. रश्मि गुप्ता, डॉ. गौरव, डॉ. अनुराग शुक्ला समेत तमाम विशेषज्ञों ने मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया।

 

 

साथ ही मुख्य रूप से डॉक्टर निसार अहमद सिद्दीकी, सुनील यादव, गजेंद्र यादव और निखिल श्रीवास्तव मौजूद रहे।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll

Readers Opinion