Kajol Says SRK is Giving Me The Tips of Acting

दि राइजिंग न्यूज़

कानपुर।

 

आइआइटी कानपुर के एक दलित असिस्टेंट प्रोफेसर ने अपने ही चार वरिष्ठ प्रोफेसर पर उत्पीड़न का आरोप लगाया है। उत्पीड़न का मामला सामने आने के बाद आइआइटी प्रशासन में हडकंप मचा है। आइआइटी निदेशन ने तीन सदस्यीय टीम का गठन किया, जिसमें चारों प्रोफेसर दोषी पाये गए हैं।

आगामी 19 मार्च को बोर्ड की बैठक में इस मामले में सुनवाई की जाएगी। बता दें कि मामला जनवरी महीने का है जब दलित प्रोफेसर ने उत्पीड़न की शिकायत की थी।

आइआइटी के पूर्व छात्र व असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. सुब्रमण्यम सडरेला ने चार वरिष्ठ प्रोफेसर पर गंभीर आरोप लगाया था। जानकारी के मुताबिक डॉ. सडरेला पर जाति सूचक कमेंट्स पास किये जाते थे। इसके साथ ही उनके साथ दुर्व्यवहार किया जाता व मानसिक प्रताड़ना दी जाती थी। इसकी शिकायत उन्होंने संस्थान के बोर्ड सदस्यों से की थी।

इस मामले को गंभीरता से लेते हुए आइआइटी निदेशन मनिन्द्र अग्रवाल, एकेटीयू के कुलपति प्रोफेसर विनय कुमार के नेतृत्व में तीन सदस्यीय टीम का गठन किया था। इस जांच कमेटी ने सभी के बयान दर्ज किये और अपनी रिपोर्ट तैयार की है। हालांकि रिपोर्ट को निदेशक मनिन्द्र अग्रवाल को सौंप दी गई है।

डॉ मनिन्द्र अग्रवाल के मुताबिक इस गंभीर मामले को आगामी 19 मार्च को संस्थान की बोर्ड बैठक में उठाया जायेगा। चर्चा के बाद ही कोई फैसला लिया जायेगा। बता दें कि डॉ. सुब्रमण्यम सडरेला ने एक जनवरी, 2018 को ज्वाइन किया था।

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement