Updates on Priyanka Chopra and Nick Jones Roka Ceremony

दि राइजिंग न्‍यूज

कानपुर।

 

गुरुवार को मानवतावादी सामाजिक संगठनों और भारतीय दलित पैंथर के संयुक्त तत्वाधान में आरक्षण की मांग को लेकर रविदास आश्रम ईदगाह से फूलबाग तक पैदल मार्च निकाला गया।

इस दौरान दलित नेताओं ने कहा कि जब से केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी है, तब से एससी-एसटी और अल्पसंख्यक वर्ग अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। दलित पैंथर के अध्यक्ष धनी राम ने बताया कि एससी-एसटी एक्ट को पहले की तरह लागू किया जाए। अध्यादेश के खिलाफ निर्णय देने वाले जस्टिस के खिलाफ बर्खास्तगी का आदेश पारित किया जाए। सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में भी आरक्षण व्यवस्था लागू हो।

करेंगे जेल भरो आंदोलन

उन्‍होंने कहा, चंद्रशेखर पर लगाए गए मुकदमे वापस हों और उसे रिहा करने के आदेश दिए जाएं। जो भी भारत बंद के दौरान एससी-एसटी के ऊपर मुकदमे लिखे गए हैं उन्हें वापस लेकर उन्हें रिहा करने का आदेश दिए जाएं। यदि हमारी मांग पूरी न हुई तो हम सभी चक्का जाम कर देंगे और जेल भरो आंदोलन करेंगे। ये सरकार दलित विरोधी नीति अपना रही है। राज्यसभा में सरकार ने बिल पास किया, जबकि लोकसभा में पास नहीं किया गया, उसका विरोध करते हैं। ये विशाल आंदोलन होता रहेगा, जेल भरो आंदोलन होता रहेगा।

2019 में करेंगे वोट न देने की अपील

नेताओं ने आगे कहा कि 2019 में सभी संगठनों से अपील करेंगे कि उन्हें वोट न दिए जाए। राष्ट्रपति को मंदिर में घुसने नहीं दिया जाता, यह कहां का न्याय है। दलितों का लगातार हनन हो रहा है। जल्द से जल्द इस आरक्षण के मामले में सुनवाई की जाए अन्यथा आगे बड़े आंदोलन होंगे।

संयोजक हरविंदर सिंह लार्ड ने कहा कि जो भी दलितों का विरोध करेगा, हम उसका विरोध करेंगे। हम सभी दलितों के साथ मिलकर उनके आरक्षण की लड़ाई लड़ते रहेंगे।

 

जो मित्र दि राइजिंग न्यूज की खबर सीधे अपने फोन पर व्हाट्सएप के जरिए पाना चाहते हैं वो हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप नंबर से जुडें  7080355555

दि राइजिंग न्यूज़

Suggested News

Advertisement

Public Poll